नोटबंदी के बाद फैली अफरा-तफरी के बीच एक मजदूर के साथ ऐसा हुआ कि उसके होश उड़ गए। घटना मध्यप्रदेश के इंदौर के पास की है। मज़दूरी कर परिवार को पेट पालने वाला अंबाराम बेटी की फीस के लिए बैंक से पैसे निकालने गया तो वहाँ एक खबर सुनकर उसके होश उड़ गए। बैंक वालों ने कहाँ कि तुम्हारे खाते से 99 अरब रुपए निकाले गए हैं। इसलिए तुम्हारा खाता सील कर दिया गया है। ये सुनकर अंबाराम को भरोसा नहीं हुआ। वह दौड़कर एटीएम पहुँचा तो सच में उसके खाते में माइनस 99 करोड़ रुपए दिखा रहे थे। Also Read - कपड़ा उद्योग में मजदूरों की कमी से स्पिनिंग मिलों की रफ्तार पड़ी धीमी, कामकाज हो रहा प्रभावित

Also Read - कोरोना लॉकडॉउन: राजस्थान सरकार ने कारखानों में कामगारों का समय फिर 8 घंटे किया

यह भी पढेंः माँ बैंक की कतार में, उधर घर में अकेली मासूम बच्ची से दुष्कर्म Also Read - पुरानी करेंसी बदलने का बड़ा अड्डा बना पड़ोसी देश, 1 करोड़ रुपए ले जा रहे थे नेपाल, अरेस्ट

अबाराम के खाते में कुल 1500 रुपए थे जिसमें से बेटी की फीस के लिए वो 500 रुपए निकालने नागझिरी बैंक गया था। वहाँ कहा गया कि तुम्हारा खाता सीज कर दिया है। शाखा प्रबंधक ने इस बड़ी गड़बड़ी पर कहा कि यह तननीकी गलती है। किसी सरकारी विभाग की निकासी अंबाराम के खाते से दिखाई दे रही है। अंबाराम के खाते में महज 11 सौ रुपए ही हैं।

यह भी पढेंः दिल्लीः नोट बदलने गई युवती ने बैंक के बाहर उतार दिए कपड़े, 10 मिनट में मिल गए पैसे

गौरतलब है कि अंबाराम मजदूरी करके परिवार का खर्च चलाते हैं। उनकी बेटी कई दिनों से स्कूल फीस की जिद कर रही थी। घर में नकद पैसे न होने के चलते उन्होंने अपने खाते में पड़े 1500 रुपए से 500 निकालने का फैसला किया। लेकिन जब बैंक पहुँचे तो पता चला वो 99 अरब पहले ही निकाल चुके हैं। एकबार और उनके इस खाते से 50 हजार रुपए जमा करके निकाले गए थे। फिलहाल बैंक ने खाता सीज कर दिया है और जाँच कर रहा है।