भोपाल: बिहार और उत्तरप्रदेश के लोगों के कारण मध्यप्रदेश में स्थानीय लोगों को नौकरी नहीं मिलने संबंधी अपने बयान पर विवाद होने के बाद मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि वह कौन सी नई बात कर रहे हैं. गुजरात सहित अन्य प्रांतों में भी ऐसा है. मध्यप्रदेश का मुख्यमंत्री बनने के बाद बुधवार को पहली बार प्रदेश के उच्च पुलिस अधिकारियों के साथ पुलिस मुख्यालय में एक बैठक के बाद एक सवाल के उत्तर में कमलनाथ ने मीडियाकर्मियों से कहा, ”ये सब जगह है. अन्य प्रांतों में भी है. मैं कौन सी नई बात कर रहा हूं. सब अन्य प्रातों में है, गुजरात में क्या है?”Also Read - Bihar Police Constable Result 2021: सिपाही भर्ती परीक्षा का रिजल्ट घोषित, इस डायरेक्ट लिंक से ऐसे करें चेक

Also Read - जूम कॉल पर सीईओ ने 900 से अधिक कर्मचारियों को नौकरी से किया बाहर: रिपोर्ट

Also Read - कभी सफेद तो कभी काले लिबास में आती है अदृश्य शक्ति, खा जाती है घर का खाना और सोना! केवल पैर देते हैं दिखाई..

कमलनाथ के बयान पर शिवराज का ट्वीट, मप्र में कोई बाहरी नहीं, जो आता है यहीं बस जाता है

खबरों के मुताबिक, कमलनाथ ने मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद सोमवार को भोपाल में कहा था कि मध्यप्रदेश में ऐसे उद्योगों को सरकारी छूट दी जाएगी, जिनमें 70 प्रतिशत नौकरी मध्य प्रदेश के लोगों को दी जाएगी. उन्होंने कहा था कि बिहार, उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों के लोगों के कारण मध्य प्रदेश में स्थानीय लोगों को नौकरी नहीं मिल पाती है.

मुख्यमंत्रियों के शपथ ग्रहण समारोह में दिखे दिलचस्प नजारे, ‘मामा’ शिवराज, ‘बुआ’ वसुंधरा ने जीता दिल

कमलनाथ के इस बयान की बीजेपी, आरजेडी, जेडीयू और समाजवादी पार्टी ने आलोचना की. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को कहा कि वह इससे अवगत नहीं है और इस बारे में चर्चा करने के बाद जवाब देंगे. गांधी ने इस बारे में पूछे जाने पर रिपोर्टर्स से कहा, मैं इससे अवगत नहीं हूं. इस पर चर्चा करूंगा और फिर आपको जवाब दूंगा.

यूपी-बिहार पर कमलनाथ के बयान को लेकर बीजेपी बोली- ये कांग्रेस का दोहरा चरित्र और विभाजनकारी चेहरा

राज्यसभा सांसद और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह को भोपाल में सरकारी बंगला आवंटित करने के सवाल पर कमलनाथ ने कहा कि सांसद के लिए आवास आवंटित करने के नियमों के तहत उन्हे आवास दिया गया है. पूर्व मुख्यमंत्री के तौर पर शिवराज सिंह चौहान को भी उन्होंने सरकारी आवास आवंटित किया है.

VIDEO: एमपी में सीएम शपथ ग्रहण समारोह: शिवराज ने सिंधिया-कमलनाथ के हाथ पकड़कर यूं उठाए

मध्यप्रदेश में पुलिस आयुक्त प्रणाली लागू करने के सवाल पर उन्होंने कहा कि इस पर चर्चा करेंगे. पहले भी इस पर बात चली है. ताजा हालत में भविष्य को देखकर इस बारे में तय करेगें. उन्होने कहा कि प्रदेश में पुलिस का बजट बढ़ाने की जरुरत है. अन्य प्रदेशों की तुलना में हमारी पुलिस फोर्स कम है और पुलिस का बजट भी कम है. पूरे देश के आंकड़े देखें तो हम अन्य प्रदेशों से आगे न जायें तो कम से कम उनके समान तो हो ही जाए.

कमनाथ ने लगभग एक घंटे तक पुलिस के उच्च अधिकारियों से बैठक की और कहा कि पुलिस का मनोबल बढा़ने की जरूरत है और वर्दी का सम्मान हमेशा कायम रहना चाहिए.

कमलनाथ ने कहा कि मध्यप्रदेश की छवि अच्छी बने और इसे बनाने में पुलिस का अहम रोल है. कमलनाथ ने पुलिस अधिकारियों को पहले चरण में प्रदेश में मादक पदार्थों और सट्टे पर जीरो टालरेंस नीति अपनाकर सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए. उन्होने कहा कि प्रदेश की पुलिस का आधुनिकीकरण होना चाहिए.