Madhya Pradesh News: मध्य प्रदेश (MP) की शिवराज सिंह सरकार ने लव जिहाद कानून के बाद अब प्रदेश में गोधन के संरक्षण और संवर्धन के लिये काऊ कैबिनेट (Cow cabinet) के गठन का ऐलान किया है. मुख्यमंत्री ने बताया कि गौ कैबिनेट की पहली बैठक 22 नवंबर को आगर-मालवा जिले में स्थित गो अभयारण्य में होगी. उनकी इस घोषणा के साथ ही इस पर सियासत शुरू हो गई है. प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस पर सवाल खड़े किए हैं. साथ ही उन्होंने शिवराज सरकार को पुराना वायदा भी याद दिलाया है.Also Read - MP Lockdown: सीएम शिवराज सिंह चौहान ने लॉकडाउन को लेकर कही ये बड़ी बात, जानिए क्या कहा

काऊ कैबिनेट की घोषणा पर छिड़ा संग्राम Also Read - MP News: स्कूल के भीतर चल रही थी CBSE की 12वीं की परीक्षा, बाहर हो रहा था बवाल, जानिए मामला

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि 2018 के विधानसभा चुनाव के पूर्व प्रदेश में गौ मंत्रालय बनाने की घोषणा करने वाले शिवराज सिंह अब गोधन संरक्षण और संवर्धन के लिए गौ कैबिनेट बनाने की बात कर रहे हैं. उन्होंने अपनी चुनाव के पूर्व की गयी घोषणा में गौमंत्रालय बनाने के साथ-साथ पूरे प्रदेश में गौ अभ्यारण और गौशालाओं का जाल बिछाने का वादा किया था. हर घर में छोटी-छोटी गौशाला बनाने की भी बात भी उन्होंने अपनी चुनावी घोषणा में कही थी. Also Read - Madhya Pradesh: आर्थिक, मानसिक परेशानी के चलते डॉक्टर ने फांसी लगाकर खुदकुशी की

कमलनाथ ने लिखा कि अपनी पूर्व की घोषणा को भूलकर शिवराज फिर एक नई घोषणा कर रहे हैं. सभी जानते हैं कि अपनी 15 वर्ष की सरकार में और वर्तमान 8 माह में शिवराज सरकार ने गौ माता के संरक्षण और संवर्धन के लिए कुछ नहीं किया. उल्टा गौमाता के लिये चारे की राशि में कांग्रेस सरकार ने जो बीस रुपये प्रति गाय का प्रावधान किया था , उसे भी कम कर दिया.

भाजपा ने दिया जवाब 

मध्यप्रदेश में काऊ कैबिनेट के गठन को लेकर गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा का बयान सामने आया है. उन्होंने कहा गीता, गंगा, गौ माता हमारे शुभदाता हैं. इसलिए गौ कैबिनेट बनाई गई है. कमल नाथ के काऊ कैबिनेट पर ट्वीट के जरिये सवाल उठाने पर नरोत्तम मिश्रा ने कहा कमलनाथ उपचुनाव परिणाम आने के बाद से कहां है, अब वो सिर्फ ट्वीटर पर ही मिलेंगे.