इंदौर: मध्य प्रदेश सरकार और निजी क्षेत्र के गठजोड़ वाली नयी पहल के तहत बुधवार को यहां गरीब तबके के मरीजों के मुफ्त इलाज के लिये योजना शुरू की गयी. इसके तहत शहर के 170 निजी अस्पतालों ने हर महीने एक-एक गरीब मरीज के निःशुल्क इलाज की जिम्मेदारी ली है. इस योजना को “आह्वान” (एक्शन टू असिस्ट एंड वालंटियर थ्रू ऐड, हेल्प एंड अडॉप्ट) नाम दिया गया है. राज्य के लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री तुलसीराम सिलावट ने इसका शुभारंभ किया.

सिलावट ने इस मौके पर कहा, “हमने राज्य के सबसे बड़े शहर इंदौर से इस प्रायोगिक योजना की शुरुआत की है. यदि यह योजना सफल होती है, तो पूरे प्रदेश में इसे लागू किया जाएगा.”

जिलाधिकारी लोकेश कुमार जाटव ने बताया कि इस योजना के लिए विशेष सॉफ्टवेयर तैयार कराया गया है, जिसके जरिये सुनिश्चित होगा कि मरीजों को अस्पताल आवंटन के मामले में सरकारी तंत्र का कोई दखल नहीं रहे. इस सॉफ्टवेयर के जरिये अपने आप तय होगा कि किस मरीज को किस अस्पताल में इलाज के लिए भेजा जाए.