रीवा : भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की हत्या का षड्यंत्र करने वाले ‘अर्बन माओवादियों’ का समर्थन करने का आरोप लगाया. शाह ने एनआरसी के मुद्दे पर कांग्रेस सहित दूसरी विपक्षी पार्टियों पर भी जमकर निशाना साधा. Also Read - सुशांत सिंह सुसाइड केस पर अब राजनीति हुई तेज़, कांग्रेस ने लिखा गृहमंत्री को पत्र, उठाई ये मांग

Also Read - Rajya Sabha Elections 2020: 8 विधायकों के इस्तीफे से कांग्रेस पार्टी परेशान, भाजपा के पक्ष में जा सकते हैं चुनावी नतीजे

शाह ने यहां एसएएफ मैदान में भाजपा कार्यकर्ता सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए कहा, ‘‘मित्रो, महाराष्ट्र की सरकार ने अर्बन माओवादियों को पकड़ा. उनके कम्प्यूटर से पत्र व्यवहार पकड़ा. पत्र व्यवहार से पता चला उनको मोर्टार, बम और मशीनगन चाहिये. मोदीजी की हत्या करने का षडयंत्र करना चाहते थे. जैसे ही उनको पकड़कर जेल में डाला, फिर से राहुल बाबा एंड कंपनी काऊं, काऊं करने लगे. इनको इसमें बोलने की आजादी दिखाई देती है. जेएनयू में नारे लगते है….भारत तेरे टुकड़े होगें इंशाअल्लाह एक हजार, एक हजार. राहुल बाबा कहते हैं फ्रीडम ऑफ स्पीच है, नक्सलवादी पकड़े जाते हैं, उनको फ्रीडम ऑफ स्पीच दिखाई देती है.’’ Also Read - Bihar News: कांग्रेस विधायक की गाड़ी से शराब की बोतलें बरामद, विधायक बोले- राशन बांटने निकले थे...

उन्होंने आगे कहा कि राहुल बाबा आपको जो दिखाई पड़े तो पड़े. इस देश पर नरेन्द्र मोदी का शासन है, भाजपा का शासन है और जो देश को टुकड़े करने, देश को जात-पात पर बांटने की बात करेगा, भाजपा की सरकार में उसकी जगह जेल की सलाखों के पीछे होगी. देश की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ करने का अधिकार किसी को नहीं है.

मप्र: चुनावी सभा में राहुल का तंज, पीएम मोदी की दोस्‍ती अमीरों से है, गरीबों के लिए उनके दिल में जगह नहीं

भाजपा अध्यक्ष ने अवैध घुसपैठ के मुद्दे पर कांग्रेस पर वोटबैंक की राजनीति करने का आरोप लगात हुए कहा कि कांग्रेस जब भी सत्ता में आई देश की सुरक्षा को निर्बल करने का काम किया है. उन्होने कहा, ‘‘केन्द्र और असम में भाजपा सरकार बनने के बाद हम एनआरसी (नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन) लेकर आये. इसकी पहली सूची में ही केवल असम में 40 लाख घुसपैठिये चिन्हित हो गये हैं. यह सूची बनते ही कांग्रेस पार्टी सहित विपक्षी दल सपा, बसपा और तृणमूल कांग्रेस सारे के सारे हाय तौबा करने लगे, जैसे उनकी नानी मर गई हो.’’ कांग्रेस द्वारा इनके मानवाधिकारों की बात का जिक्र करते हुए शाह ने सवाल किया कि जब इन घुसपैठियों द्वारा किये गये बम धमाकों से देश की माताओं-बहनों की जान जाती है तो उस वक्त हमारे देश के लोगों के मानवाधिकार की चिंता नहीं होती. जब इनके कारण देश का युवा बेरोजगार रह जाता है, तब उनके मानवाधिकार की चिंता नहीं होती.

किसान के बेटे के खिलाफ साजिश रच रहे राजा, महाराजा और उद्योगपति: शिवराजसिंह चौहान

उन्होंने कहा कि ये घुसपैठिये कांग्रेस पार्टी के लिये वोटबैंक हैं लेकिन हमारे लिये ये देश की सुरक्षा का सवाल है. ये देश को दीमक की तरह चाट रहे हैं. उन्होने भाजपा कार्यकर्ताओं से कहा, ‘‘आप 2018 में मध्यप्रदेश में और 2019 में केन्द्र में (मोदी) भाजपा सरकार बनवाओ. मैं आपको कहता हूं देश से चुन-चुन कर घुसपैठियों को निकालने का काम भाजपा की सरकार करेगी.

कांग्रेस सरकारों के बहरे कानों ने 70 साल तक किसानों की आवाज नहीं सुनी: अमित शाह

कांग्रेस की ओर संकेत करते हुए शाह ने कहा, ‘‘घुसपैठियों को निकालने से आप हमें नहीं रोक सकते हैं. हम भाजपा के कार्यकर्ता हैं और हमारे लिये देश की, भारत माता की सुरक्षा सर्वोपरि है.’’ इसके बाद शाह ने आदिवासी बहुल डिण्डोरी में जनजातीय सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस ने आदिवासियों का समर्थन लेकर देश पर शासन किया लेकिन आदिवासी वर्ग के कल्याण और विकास के लिये कुछ नहीं किया. उन्होंने कहा कि केन्द्र में मोदी सरकार आने के बाद अनुसूचित जाति, जनजाति कल्याण मद में 30 फीसदी की बढ़ोतरी की गई है. इसके अलावा देश के आदिवासी इलाकों के विकास के लिये प्रधानमंत्री खनिज कल्याण मद की शुरुआत की गई है. इस मद में अब तक 18,000 करोड़ रुपये जमा हुआ हैं.