नई दिल्लीः शुक्रवार की सुबह मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से एक दर्दनाक खबर आई. यहां छोटे तालाब में गणपति विसर्जन करने गए 11 लोगों की डूबने से मौत हो गई. घटना से आस पास के क्षेत्र में हड़कंप मच गया. सूचना पाकर मौके पर SDRF और NDRF की टीम घटना स्थल पर पहुंची और राहत गोताखोरों की मदद से लोगों को बचाने का कार्य शुरू किया.

मध्‍यप्रदेश में अभूतपूर्व संवैधानिक संकट, कमलनाथ CM, सरकार चला रहे दिग्‍व‍िजय: शिवराज

राज्य में लगातार बारिश के कारण तालाब और झरने पूरी तरह से भरे हुए हैं और इसको लेकर सरकार ने पहले ही चेतावनी जारी करते हुए कहा था कि लोग तालाबों में मत जाए. जानकारी के अनुसार शुक्रवार की सुबह 17 लोग शहर के छोटे तालाब में गणेश विसर्जन के लिए पहुंचे थे. नाव की क्षमता से अधिक लोग बैठने के कारण बीच तालाब में ही नाव पलट गई. सूचना मिलते ही जहांगीराबाद थाने की पुलिस में मौके पर पहुंची और राहत कार्य शुरू किया. सूचना के अनुसार अभी तक इस हादसे में 11 लोगों की मौत हो चुकी है और 5 लोगों को बचा लिया गया है.


राहत कार्य में जुटी टीम के अनुसार विसर्जन के लिए दो नावों को जोड़ा गया था जिससे बैलेंस बिगड़ने से यह हादसा हुआ. बताया जा रहा है कि नाव में बैठे किसी भी व्यक्ति ने लाइफ जैकेट नहीं पहनी थी. इस हादसे के बाद मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इसकी मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दे दिए हैं और साथ ही कहा है कि लापरवाही बरतने वालों कि खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी. जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने इस घटना में मरने वालों को परिवारों को सरकार की तरफ से चार लाख रुपये के मुआवजे का ऐलान किया है.

बताया जा रहा है कि विसर्जन के लिए छोटी झील के खाटलापुरा घाट में लोग छोटी सी नाव में पहुंचे थे और नाव छोटी होने कारण इन लोगों ने दो नावों को एक साथ जोड़ रखा था विसर्जन के दौरान नाव एक तरफ झुक गई थी और पलटने से यह दर्दनाक हादसा हुआ. जानकारी अनुसार जिन लोगों की मौत हुई है वह पिपलानी क्षेत्र के रहने वाले हैं.