भोपाल: सुप्रीम कोर्ट के आदेश के खिलाफ केन्द्र सरकार द्वारा लाए गए एससी/एसटी कानून को लेकर विरोध प्रदर्शन थमने का नाम नहीं ले रहा है. मध्य प्रदेश के कुछ सवर्ण संगठनों ने छह सितंबर को ‘भारत बंद’ का ऐलान किया है. इसके मद्देनजर समूचे मध्य प्रदेश में पुलिस अलर्ट हो गई है. यहां धारा 144 लागू कर दी गई है. बता दें कि केंद्र सरकार द्वारा सुप्रीम कोर्ट के फैसले के उलट किए गए संशोधन के विरोध में प्रदर्शन हो रहे हैं.Also Read - Farmer's Agitation Live Updates: किसान नेता चढूनी बोले, जब तक सरकार सभी मांगें नहीं मान लेती तब तक आंदोलन चलता रहेगा

Also Read - Goa: पूर्व मुख्‍यमंत्री रवि नाइक ने दिया कांग्रेस के व‍िधायक पद से इस्तीफा, BJP में हो सकते हैं शामिल

मध्य प्रदेश: SC/ST एक्ट में संशोधन के विरोध में बीजेपी नेता ने दिया इस्तीफा Also Read - Loksabha में बोले राहुल गांधी, मेरे पास है आंदोलन में जान गंवाने वाले किसानों की लिस्ट; इन्हें दीजिए मुआवजा

मध्य प्रदेश में कुछ ही समय बाद विधानसभा चुनाव है. यहां बीजेपी नेताओं सहित सीएम शिवराज सिंह चौहान को भारी विरोध झेलना पड़ रहा है. सवर्ण जाति के लोग खुलकर बीजेपी के खिलाफ आ गए हैं. सीएम पर पत्थर, जूते तक फेंके जा चुके हैं. विरोध में ‘भारत बंद’ का आह्वान किया जा रहा है. इसी के चलते प्रदेश के तीन जिलों मुरैना, भिण्ड एवं शिवपुरी में आज धारा 144 लगा दी गई है. यह 7 सितम्बर तक प्रभावी रहेगी. पुलिस महानिरीक्षक (इंटेलीजेंस) मकरंद देउस्कर ने बताया कि राज्य के सभी 51 जिलों के पुलिस अधीक्षकों को सतर्क रहने के निर्देश दिए गए हैं.’

नए एससी-एसटी बिल को कैबिनेट की मंजूरी, इस सत्र में सरकार पारित कराएगी: राजनाथ

शिवपुरी कलेक्टर शिल्पा गुप्ता, भिंड कलेक्टर आशीष कुमार गुप्ता एवं मुरैना कलेक्टर भरत यादव ने बताया कि ‘मध्यप्रदेश दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के तहत जन सामान्य को जानमाल की रक्षा एवं लोक शांति बनाए रखने हेतु राजस्व जिले की सीमा के अंदर प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किया गया है. जारी आदेश 4 सितम्बर से आगामी आदेश तक लागू रहेगा.’ उल्लेखनीय है कि केन्द्र सरकार द्वारा एससी/एसटी एक्ट में संसोधन किए जाने के विरोध में सवर्ण समाज, करणी सेना, सपाक्स एवं अन्यों द्वारा छह सितम्बर को ‘भारत बंद’ के आह्वान को मद्देनजर यह आदेश जारी किया गया है.