Bhopal Complete Shutdown: मध्य प्रदेश में कोरोना (Coronain MadhyaPradesh) के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं. कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए राज्य में एक बार फिर से संपूर्ण लॉकडाउन लगाया गया है. भोपाल सहित कई शहरों में शुक्रवार रात आठ बजे से लॉकडाउन ( 10 Days Total Lockdown in Bhopal) लगा दिया है जो कि अब दस दिनों तक लागू रहेगा. सरकार ने इस बार लॉकडाउन (Lockdown in Madhya Pradesh) के घोषणा दो दिन पहले ही कर दी थी ताकि लोग जरूरी सामानों की खरीददारी कर सकें. गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने लॉकडाउन की जानकारी देते हुए कहा था कि लॉकडाउन के नियमों का कड़ाई से पालन होगा और इसीलिए लोगों को दो दिन पहले सूचना दी गई है ताकि नियमों (Bhopal Lockdown Guidelines) का उल्लंघन न हो सके. Also Read - देशभर में स्‍कूल खोलने को लेकर केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय का बयान, MHA की गाइडलाइंस का है इंतजार

flights and trains Tickets will be valid as E-Pass Also Read - Coronavirus: क्या कमजोर हो रहा है कोरोना वायरस? जल्द हो जाएगा खत्म, सच क्या है, जानें...

लॉकडाउन को लेकर सरकार और प्रशासन की तरफ से नई गाइडलाइन जारी हो चुकी है. इस बार कुल 29 बिंदुओं पर सरकार ने प्रमुख रूप से नियम तय किए हैं. भोपाल में पिछले एक सप्ताह से कोरोना के मामले तेजी से सामने आ रहे है जिसके बाद लॉकडाउन लगाने का फैसला लिया गया. बता दें कि 24 जुलाई रात आठ बजे से शुरू हुआ लॉकडाउन 4 अगस्त को शाम पांच बजे तक रहेगा. Also Read - मिसाल: कोरोना को हराने किसान ने कसी कमर, उगा रहे इम्यूनिटी बूस्टर्स, काढ़ा बना मुफ्त में बांटते हैं...

लॉकडाउन के दौरान शहर में प्राइवेट बसें, आटो, टैक्सी, कैब पर पूरी तरह से पाबंदी रहेगी. सिर्फ उन्हीं वाहनों को आने जाने की परमिशन मिलेगी जो एसेंसियल सर्विस से जुड़े होंगे. एक स्थान पर भीड़ इकट्ठा न हो इसलिए होटल, रेस्टोरेंट, पार्कों में भी लोगों के आने जाने पर पाबंदी लगेगी.

वैसे तो लॉकडाउन के दौरान अभी तक ऑनलाइन सर्विस चालू थी लेकिन अब भोपाल में अगले दस दिनों तक ऑनलाइन सर्विस भी पूरी तरह से बंद रहेगी. शहर में बाजार और किराने के स्टोर पर भी ताले लगे रहेंगे. राज्य सरकार ने लॉकडाउन के दौरान धार्मिक स्थानों को भी बंद रखने का निर्णय लिया है.

एयर पोर्ट और रेलवे स्टेशन जाने के लिए लोगों को अपने ही साधन का प्रयोग करना होगा. आने जाने केलिए ट्रेन और फ्लाइट्स के टिकट ई- पास की तरह काम करेंग. जानकारी के अनुसार दूध जैसी जरूरी सामान पहुंचाने वालों के लिए भी नियम तय किए गए. ऐसे लोग सुबह साढ़े छह बजे से लकर साढ़े नौ बजे तक ही घरों में सामान पहुंचा सकेंगे.