भोपाल: मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को बहुमत मिलने और मुख्यमंत्री चुने जाने के बाद आज (शुक्रवार) कमलनाथ ने कांग्रेस के अन्य नेताओं के साथ राज्यपाल आनंदी बेन पटेल से मुलाकात की. तय हुआ है कि शपथ ग्रहण समारोह 17 दिसंबर को लाल परेड मैदान में होगा. कमलनाथ मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के लाल परेड मैदान पर शपथ लेंगे. इसे लेकर तैयारियां शुरू हो गई हैं.

इंदिरा गांधी के ‘तीसरे बेटे’ कमलनाथ चुने गए मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री

कांग्रेस के नवनिर्वाचित नेता कमलनाथ ने राजभवन से बाहर निकलकर संवाददाताओं को बताया कि 17 दिसंबर को दोपहर डेढ़ बजे लाल परेड मैदान में शपथ ग्रहण होगा. कमलनाथ के साथ प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, सांसद विवेक तन्खा, अरुण यादव, सुरेश पचौरी आदि थे. राज्यपाल से कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल का संवाद हुआ.

चाह कर भी दोस्त माधवराव सिंधिया को सीएम नहीं बनवा पाए थे राजीव गांधी, ज्योतिरादित्य के साथ क्या करेंगे राहुल गांधी

राज्य के विधायकों ने गुरुवार की रात को कमलनाथ को अपना नेता चुन लिया. उसके बाद पर्यवेक्षक ए.के. एंटोनी ने कमलनाथ के नाम की घोषणा की. कमलनाथ ने नेता चुने जाने के बाद साफ किया कि उनकी सरकार चुनाव के दौरान लोगों के लिए बनाए गए वचन पत्र पर अमल करने का प्रयास करेगी. मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा ने संवाददाताओं से चर्चा करते कहा था कि कांग्रेस नेता 11 बजे राज्यपाल से मुलाकात करेंगे और उसके बाद ही शपथ ग्रहण की तारीख का फैसला होगा.