भोपाल: मध्य प्रदेश पुलिस ने फर्जी कॉल सेंटर के जरिए लोन देने का झांसा देकर लगभग 10,000 लोगों को 10 करोड़ रुपए का चूना लगाने वाले गिरोह का खुलासा करते हुए दो युवतियों सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने आरोपियों से ठगी में उपयोग किए गए 6 लैपटॉप, 25 मोबाइल फोन, 21 पेन ड्राइव और आठ सक्रिय सिम बरामद की हैं. Also Read - सिंगापुर की कंपनी ने यूपी की फिल्‍म सिटी में एक करोड़ डॉलर का निवेश करने की पेशकश की

पुलिस महानिरीक्षक (भोपाल जोन) उपेन्द्र जैन ने शनिवार को कहा, ”हमने गिरोह के सरगना ऑनलाइन डिज़ाइनर, बी कॉम स्नातक डेविड कुमार जाटव (21) और इसकी दो सहयोगियों मनीषा भट्ट (27) और उसकी बहन नेहा भट्ट (23) को नोएडा से गिरफ्तार किया है. आरोपियों को आज भोपाल में अदालत में पेश कर उनका रिमांड लिया जाएगा.” Also Read - नोएडा: सेक्टर-21 में फिल्म सिटी बसाने का प्रस्ताव, यूपी सरकार को भेजी योजना

आईजी ने बताया कि जाटव गाज़ियाबाद, उत्तर प्रदेश का रहने वाला है, जबकि मनीषा और नेहा, उत्तराखंड से बीए स्नातक हैं. एक अन्य आरोपी कमल कश्यप फिलहाल फरार है. आरोपी वर्ष 2018 से अनेक वेबसाइटों के जरिए लोगों को कम ब्याज पर ऋण देने की बात कहकर ठगी करते थे. Also Read - Film City in UP: यूपी सरकार का ऐलान, राज्य के इन क्षेत्रों में बनेगी फिल्म सिटी, मिलेगा रोजगार को बढ़ावा

इस संबंध में एक अधिकारी ने बताया कि पुलिस ने आरोपियों से ठगी में उपयोग किए गए 6 लैपटॉप, 25 मोबाइल फोन, 21 पेन ड्राइव और आठ सक्रिय सिम बरामद की हैं.

मध्य प्रदेश पुलिस को दिसंबर 2019 में पदमेश सिंह ने शिकायत दी थी कि वेबसाइट ‘स्विफ्ट फाइनेंस डॉट इन’ के जरिए ठगी लोगों से ठगी की जा रही है. इसपर पुलिस ने इस गिरोह के खिलाफ अपनी जांच शुरू की.