उज्जैन: श्रावण मास के पहले सोमवार को उज्जैन में बाबा महाकाल मंदिर में विशेष पूजा करने आईं पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने खुद को ‘मोगली’ बताया और कहा कि मोंगली को तो शेर आदि से डर नहीं लगता क्योंकि वह तो उन्हीं के बीच रहा है. मध्यप्रदेश में अभी टाइगर को लेकर जिरह चल रही है. इसको लेकर उमा भारती से पूछा गया तो उन्होंने कहा, “ये सब जुमलेबाजी है. इन जुमलेबाजी का कोई जवाब नहीं हो सकता, क्योंकि वह कहते हैं कि मैंने टाइगर का शिकार किया और कोई कहता है कि टाइगर अभी जिंदा है.” Also Read - Rajasthan Assembly Session: सीएम गहलोत ने जीता विश्वास मत, पायलट ने कहा-नहीं चला किसी का कोई जादू

उमा भारती ने कहा, “मध्य प्रदेश पेंच क्षेत्र के जंगल में एक मोगली हुआ है, मोगली को कोई काम सौंप दोगे तो वह किसी चीज से डरेगा ही नहीं, क्योंकि वह तो जंगल में ही रहा शेरों, बाघों के बीच में. वह तो छलांगें मार-मार कर काम करेगा. मैं तो मोगली ही हूं और मोगली ही रहूंगी.” Also Read - बिहार चुनाव में अहम भूमिका निभा सकते हैं देवेंद्र फडणवीस, क्‍या सुशांत सिंह राजपूत फैक्‍टर काम करेगा

राज्य में वर्ष 2003 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को दी गई शिकस्त का जिक्र करते हुए उमा भारती ने दिग्विजय सिंह का नाम लिए बिना कहा, “मैंने वर्ष 2003 में टंक्यूलाइजर की ऐसी गोली चलाई कि वह (दिग्विजय सिंह) राघौगढ़ में ही रह गए, बेसुध हो गए और निकल ही नहीं पाए. मैं तो शिकार नहीं करती. मैं तो दुर्गा की बेटी हूं, दुर्गा तो शेर की सवारी करती है. हम लोगों का काम तो है शेर की सवारी करना.” Also Read - PM नरेंद्र मोदी का नया रिकॉर्ड, सबसे लंबे समय तक रहने वाले पहले गैर-कांग्रेसी प्रधानमंत्री बने

पूर्व केंद्रीय मंत्री और राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भोपाल प्रवास के दौरान पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ और दिग्विजय सिंह पर हमला बोलते हुए कहा था कि ‘टाइगर अभी जिंदा है.’ इसके जवाब में कमल नाथ ने कहा था कि कोई टाइगर है और कौन पेपर टाइगर यह तो जनता तय कर देगी. इतना ही नहीं, दिग्विजय सिंह ने माधवराव सिंधिया के साथ शेर का शिकार करने जाने की बात कही थी.