भोपालः मध्य प्रदेश(Madhya Pradesh) की सियासत का रंग पल-पल बदल रहा है. भाजपा के विधायक नारायण त्रिपाठी ने मुख्यमंत्री कमलनाथ (Chief minister Kamal Nath) और कांग्रेस (Congress) की सरकार के प्रति समर्थन जताया है. वहीं दो निर्दलीय विधायकों ने भी समर्थन की बात कही है. इसके ठीक उलट भाजपा के दो विधायक ने अपनी हत्या की आशंका जताई है. भाजपा के विधायक त्रिपाठी ने शुक्रवार की रात एक बार फिर मुख्यमंत्री कमलनाथ से मुलाकात की. मुख्यमंत्री आवास से बाहर निकलने के बाद संवाददाताओं के सवालों का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि उनका मुख्यमंत्री कमलनाथ और सरकार को समर्थन है. Also Read - Corona के खिलाफ जंग: PM मोदी को होती है हर केस की जानकारी, वार रूम की तरह काम कर रहा PMO

त्रिपाठी गुरुवार की रात को भी मुख्यमंत्री से मिले थे और उसके बाद विधानसभाध्यक्ष के आवास पर पहुंचे थे. तब उनके द्वारा इस्तीफा देने की बात कही जा रही थी मगर बाद में त्रिपाठी ने खंडन किया था. वहीं दूसरी ओर निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह शेरा व राणा विक्रम सिंह ने भी मुख्यमंत्री कमलनाथ की सरकार को समर्थन जारी रखने का ऐलान किया है. राज्य सरकार के मंत्री सुरेंद्र सिंह बघेल चार्टर प्लेन से बेंगलुरु गए हैं. संभावना जताई जा रही है कि शेरा व अन्य विधायक शनिवार को भोपाल लौट सकते हैं. Also Read - PM मोदी ने सोशल वर्कर्स से कहा, Coronavirus पर गलत सूचना और अंधविश्वास को दूर करें

निर्दलीय विधायक शेरा ने खुद के बैंगलुरु में होने की पुष्टि की है, जबकि, कांग्रेस के तीन अन्य विधायक कहां हैं इसका कोई पता नहीं चल पाया है. एक विधायक हरदीप सिंह डंग जहां अपना इस्तीफा भेज चुके है, वहीं बिसाहू लाल सिंह के लापता होने की उनके परिजनों ने थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है. Also Read - मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण से एक और मौत, प्रदेश में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 47 हुई

एक तरफ जहां कांग्रेस निर्दलीय विधायकों और अपने लापता कांग्रेस विधायकों को लाने की केाशिश में लगी है तो दूसरी ओर भाजपा के दो विधायकों संजय पाठक व विश्वास सारंग ने सुरक्षा जवानों में किए गए बदलाव के बाद अपनी हत्या की आशंका जताई है. इस पर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) ने कहा है कि अगर ऐसी आशंका है तो थाने में रिपोर्ट लिखाए.