भोपाल: मध्यप्रदेश में राज्यसभा की तीन सीटों के लिए हुए चुनाव में सत्ताधारी पार्टी भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने दो सीटों पर कब्जा किया है. वहीं कांग्रेस पार्टी के हाथ एक सीट लगी है. इससे पहले विधानसभा परिसर में शुक्रवार को सभी 206 विधायकों ने मतदान किया. विधानसभा सचिवालय के एक अधिकारी ने बताया कि विधानसभा परिसर में शुक्रवार को सुबह नौ बजे से मतदान प्रारंभ हुआ. Also Read - VIDEO: सचिन पायलट खेमे का वीडियो हुआ जारी, एक साथ बैठे दिखे करीब 16 विधायक

अधिकारी ने बताया कि कोरोना बीमारी से संक्रमित कांग्रेस विधायक ने सबसे अंत में मतदान किया. सावधानी के तौर पर वह पीपीई कीट पहनकर मतदान के लिये पहुंचे थे. मतदान शुरु होने के बाद सुबह भाजपा विधायक मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ और कांग्रेस के विधायक पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के साथ मतदान करने विधानसभा परिसर में पहुंचे थे. मतदान शुरू होने के बाद पहला मत मुख्यमंत्री चौहान ने डाला, उसके बाद प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मतदान किया. Also Read - Rajasthan Political Crisis: कांग्रेस विधायक दल की कल फिर होगी बैठक, सचिन पायलट को भेजा गया न्योता

बता दें कि मध्य प्रदेश से राज्यसभा की तीन सीटों के चुनाव के लिये भाजपा ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया और सुमेर सिंह सोलंकी को उम्मीदवार बनाया था जिन्हें जीत हासिल हुई है, जबकि कांग्रेस की ओर से पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और वरिष्ठ दलित नेता फूल सिंह बरैया उम्मीदवार थे. हालांकि कांग्रेस के हाथ केवल एक सीट लगी है. कांग्रेस की तरफ से दिग्वियज सिंह दूसरी बार राज्यसभा जाएंगे. Also Read - यूपी: कांग्रेस को झटका, बागी अदिति सिंह विधायक बनी रहेंगी, सदस्यता रद्द करने वाली याचिका ख़ारिज

मध्य प्रदेश विधानसभा में कुल 230 सीटें हैं तथा फिलहाल 24 सीटें रिक्त होने की वजह से विधानसभा की प्रभावी संख्या 206 थी. इसमें भाजपा के 107, कांग्रेस के 92, बसपा के दो, सपा का एक तथा चार निर्दलीय विधायक हैं. इस स्थिति में राज्यसभा में निर्वाचन के लिए किसी भी उम्मीदवार को 52 मतों की जरुरत थी.

इस संख्या बल के हिसाब से भाजपा के दोनों उम्मीदवार यह चुनाव जीतने की अनुकूल स्थिति में थे.