भोपाल। मध्य प्रदेश के सिवनी जिले में रहने वाले दो सगे भाइयों को पुलिस ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को जान से मारने की धमकी देने के मामले में गिरफ्तार किया है. पूछताछ के बाद दोनों को जमानत पर रिहा कर दिया गया है.भोपाल पुलिस की साइबर शाखा के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुदीप गोयंका ने बताया कि हमने जितेन्द्र अर्जुनवार (32) और भरत अर्जुनवार (25) को गिरफ्तार किया. जितेन्द्र ने 5 अगस्त से 7 अगस्त के बीच पांच बार ट्वीट किया कि वह मुख्यमंत्री को जान से मार देगा. उन्होंने कहा कि भरत अपने भाई के लिए सिम लाया था और धमकी देने के लिये उसका ट्वीटर खाता शुरू किया.Also Read - Twitter New Rules: Parag Agrawal के CEO बनते ही Twitter ने बनाए नए रूल, Video में जानें | Watch Now

Also Read - Twitter New Policy: पराग अग्रवाल के सीईओ बनते ही एक्शन में Twitter, बनाए गए नए रूल

7 अगस्त को किया था ट्वीट Also Read - Twitter New CEO: पराग अग्रवाल बने ट्विटर के नए सीईओ, जानिए उनके करियर से जुड़ी कुछ ख़ास बातें और कितनी होगी सालाना सैलरी | वीडियो देखें

एएसपी ने बताया कि सोशल मीडिया का परीक्षण करने के दौरान हमें 7 अगस्त को यह ट्वीट मिला. इसमें जितेन्द्र ने ट्वीट किया था, मैं मुख्यमंत्री को जान से मार दूंगा, अगर वह सिवनी आये और मैं मजाक नहीं कर रहा हूं, सच बोल रहा हूं, मैं इस महीने मार दूंगा. मालूम हो कि जितेन्द्र मई में ही पाकिस्तान से वापस सिवनी जिले में अपने घर वापस आया है. जितेन्द्र अनजाने में सीमा पार कर पाकिस्तान चला गया था. मुख्यमंत्री चौहान अपनी जन आशीर्वाद यात्रा के तहत सिवनी जिले में आए थे. प्रदेश में कुछ माह बाद ही विधानसभा चुनाव प्रस्तावित हैं.

रेप के बढ़ते मामलों ने शिवराज सरकार की उड़ाई नींद, चीफ जस्टिस से लगाई गुहार

एएसपी ने बताया कि दोनों भाइयों को जमानती धाराओं में गिरफ्तार किया गया. दोनों को सिवनी से भोपाल लाया गया और विस्तृत पूछताछ के बाद दोनों को जमानत पर रिहा कर दिया गया है. उन्होंने कहा, जितेन्द्र ने कुछ व्यक्तिगत कारणों या शायद प्रसिद्धि पाने के लिये यह धमकी भर ट्वीट किया था. इस धमकी के पीछे किसी संगठन का हाथ नहीं पाया गया है.

सूत्रों के मुताबिक जितेन्द्र को हिपबोन में सिकल सेल एनीमिया नामक बीमारी है और इसकी वजह से वह बिना सहारे के चल नहीं पाता है. जब वह पाकिस्तान से सिवनी वापस आया तो प्रदेश सरकार ने बीमारी के इलाज के लिए उसकी सहायता करने का वादा किया था, लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ. इसकी वजह से वह सरकार और मुख्यमंत्री से नाराज था.