लखनऊ: मध्य प्रदेश के गुना में अनुसूचित जाति वर्ग के एक किसान परिवार पर पुलिस की कार्रवाई को लेकर बसपा सुप्रिमों मायावती ने निशाना साधा है. मायावती ने कहा है कि एक तरफ भाजपा सरकार दलितों को बसाने का ढिंढोरा पीटती है वहीं, दूसरी तरफ उनको उजाड़ने की घटनाएं उसी तरह से आम हैं. Also Read - Hathras Case: हाथरस मामले पर अब होगी सुनवाई, सुप्रीम कोर्ट मंगलवार को सुनाएगा फैसला

मायावती ने गुरूवार को ट्वीटर के माध्यम से लिखा कि “मध्य प्रदेश के गुना पुलिस व प्रशासन द्वारा अतिक्रमण के नाम पर दलित परिवार को कर्ज लेकर तैयार की गई फसल को जेसीबी मशीन से बबार्द करके उस दम्पत्ति को आत्महत्या का प्रयास करने को मजबूर कर देना अतिक्रूर व अति-शर्मनाक है. इस घटना की देशव्यापी निन्दा स्वाभाविक. सरकार सख्त कार्रवाई करे. एक तरफ भाजपा व इनकी सरकार दलितों को बसाने का ढिंढोरा पीटती है जबकि दूसरी तरफ उनको उजाड़ने की घटनाएं उसी तरह से आम हैं. जिस प्रकार से पहले कांग्रेस पार्टी के शासन में हुआ करती थी, तो फिर दोनों सरकारों में क्या अन्तर है? खासकर दलितों को इस बारे में भी जरूर सोचना चाहिए.” Also Read - दलित सेल्समैन ने मांगा 5 महीने का बकाया वेतन, तो शराब ठेकेदार ने जिंदा जलाया

ज्ञात हो कि मध्य प्रदेश गुना में प्रशासन की ओर से अतिक्रमण हटाने के लिए अभियान चलाया जा रहा था, इस दौरान एक किसान दंपति की बुरी तरह से पिटाई कर दी गई. विरोध में दंपति ने कीटनाशक दवाई पी ली और खुदकुशी की कोशिश की. इसी घटना के बाद काफी बवाल हुआ, वीडियो भी वायरल हो गया. बवाल के बाद मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुना के कलेक्टर और एसपी को तुरंत हटा दिया है. इसके अलावा मामले की उच्च स्तरीय जांच के निर्देश दिए गए हैं. इस मामले को लेकर विपक्षी दल सरकार पर हमलावार हैं.