इंदौर: मध्यप्रदेश के इंदौर जिले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की हफ्ते भर पहले आयोजित चुनावी सभा में आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन का मामला दर्ज किया गया है. इस सभा में स्कूली बच्चों को मुख्यमंत्री और सांवेर के क्षेत्रीय भाजपा विधायक की तस्वीरों वाली कथित चुनावी तख्ती के साथ बैठाया गया था.

क्षिप्रा पुलिस थाने के प्रभारी अजय कुमार वर्मा ने रविवार को बताया कि मांगलिया गांव में 15 अक्टूबर को मुख्यमंत्री की सभा में चुनाव आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के संबंध में स्थानीय भाजपा नेता सुरेंद्र सिंह धनखेड़ी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गयी है. धनखेड़ी भाजपा के मंडल अध्यक्ष हैं और वह इस सभा के प्रमुख संयोजक थे.

पुलिस थाना प्रभारी अजय कुमार वर्मा ने बताया कि यह मामला सांवेर क्षेत्र के एक अनुविभागीय मजिस्ट्रेट (एसडीएम) की जांच रिपोर्ट के आधार पर आईपीसी की धारा 188 (किसी सरकारी अधिकारी के आदेश की अवज्ञा) के तहत शनिवार को पंजीबद्ध किया गया.

इस बीच, प्रदेश कांग्रेस सचिव राकेश सिंह यादव ने बताया कि उन्होंने निर्वाचन आयोग को शिकायत की थी कि मांगलिया में मुख्यमंत्री की 15 अक्टूबर को आयोजित चुनावी सभा में बीजेपी के प्रचार के लिए एक शासकीय स्कूल की नाबालिग छात्राओं को बैठाया गया, ताकि मतदाताओं को प्रभावित किया जा सके.

प्रदेश कांग्रेस सचिव ने आरोप लगाया कि स्कूली यूनिफार्म पहनीं छात्राओं के हाथ में चुनावी तख्ती भी थमायी गयी थी. इस तख्ती पर मुख्यमंत्री और सांवेर के भाजपा विधायक राजेश सोनकर की तस्वीरों के साथ भाजपा का चुनाव चिन्ह यानी कमल का फूल भी छपा था.

शिवराज ने सत्तारूढ़ भाजपा की “जन आशीर्वाद यात्रा” के तहत 15 अक्टूबर को जिले के सांवेर विधानसभा क्षेत्र के मांगलिया गांव में चुनावी सभा को सम्बोधित किया था.