इंदौर: मध्य प्रदेश के कुख्यात हनी ट्रैप मामले में कई बड़े अधिकारियों के फंसे होने की जानकारी का दावा करते हुए भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने मंगलवार को मुख्यमंत्री कमलनाथ पर निशाना साधा.उन्‍होंने कहा कि “मैं हनी ट्रैप मामले में फंसे अधिकारियों को चेतावनी दे रहा हूं कि वे बेनकाब होकर रहेंगे. अगर उन्हें प्रदेश सरकार ने बेनकाब नहीं किया, तो हम उन्हें बेनकाब कर देंगे.”

बीजेपी नेता विजयवर्गीय ने इंदौर में मीडियाक‍र्मियों से कहा, “मेरा मुख्यमंत्री कमलनाथ पर बेहद गंभीर आरोप है कि हनी ट्रैप मामले में वह नौकरशाही की अंगुलियों पर नाच रहे हैं, क्योंकि मुझे जानकारी मिली है कि इस प्रकरण में राज्य के बहुत बड़े अधिकारी भी संलिप्त हैं.”

हनी ट्रैप मामले की सनसनीखेज खबरें छापने वाले एक स्थानीय सांध्य दैनिक के फरार मालिक और कारोबारी जितेंद्र सोनी के खिलाफ पुलिस-प्रशासन की जारी कार्रवाई की ओर इशारा करते हुए बीजेपी महासचिव ने कहा, “यदि सूबे के बड़े अधिकारी हनी ट्रैप मामले में संलिप्त हैं और वे अपने आप को बचाने के लिए उस तरह के धमाके (कार्रवाई) करें, जैसे हाल ही में इंदौर में हुए हैं, तब भी वे अधिकारी बेनकाब होने से बच नहीं पाएंगे.”

बीजेपी महासचिव ने कहा, “मैं हनी ट्रैप मामले में फंसे अधिकारियों को चेतावनी दे रहा हूं कि वे बेनकाब होकर रहेंगे. अगर उन्हें प्रदेश सरकार ने बेनकाब नहीं किया, तो हम उन्हें बेनकाब कर देंगे.”

विजयवर्गीय ने यहां सोनी के नाइट क्लब “माय होम” में काम करने वाले 11 साजिंदों को इस संस्थान के अन्य कर्मचारियों के साथ मानव तस्करी के मामले में गिरफ्तार किए जाने पर भी विरोध जताया. उन्होंने कहा, “मानव तस्करी जैसे गंभीर आरोप में गरीब कलाकारों को गिरफ्तार करना ज्यादती है. अगर इन कलाकारों पर लादे गए मामले वापस नहीं लिए गए, तो हम आंदोलन करेंगे.”

उधर, कमलनाथ के करीबी समर्थकों में गिने जाने वाले सूबे के लोक निर्माण मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने हनी ट्रैप मामले में मुख्यमंत्री को लेकर विजयवर्गीय के आरोपों को झूठा करार दिया. वर्मा ने कहा, “कमलनाथ सूबे के मुख्यमंत्री बनने से पहले केंद्रीय मंत्री भी रह चुके हैं. सरकारी अधिकारी उनसे संभलकर ही बात करते हैं. वैसे हमारी सरकार पुख्ता प्रमाण मिलने के बाद उन सभी घिनौने चेहरों का खुलासा करेगी, जो हनी ट्रैप मामले में शामिल रहे हैं.”

वर्मा ने किसी का नाम लिए बगैर दावा किया कि कुछ बीजेपी नेता भी हनी ट्रैप गिरोह के जाल में फंस चुके हैं. इस गिरोह की पांच महिलाओं और उनके ड्राइवर को भोपाल और इंदौर से सितंबर में गिरफ्तार किया गया था. गिरोह पर आरोप है कि वह खुफिया कैमरों से अंतरंग पलों के वीडियो बनाकर अपने “शिकारों” को इस आपत्तिजनक सामग्री के बूते ब्लैकमेल करता था.