भोपाल. पुलिस मुख्यालय के पास होमगार्ड के कार्यालय से मंगलवार शाम को कथित तौर पर डाक मतपत्र लावारिस हालत में मिलने के मामले में कांग्रेस ने जांच की मांग करते हुए आज एक ज्ञापन चुनाव आयोग को दिया है. कांग्रेस ने यह भी आरोप लगाया कि यह मतपत्र होम गार्ड के जवानों को मतदान के लिए दिए ही नहीं गए. प्रदेश कांग्रेस के चुनाव मामलों के प्रभारी जेपी धनोपिया ने बुधवार को कहा, ‘‘मंगलवार शाम को होमगार्ड के कार्यालय में डाक मतपत्र लावारिस हालत में पाए जाने की घटना पर हमने आज चुनाव आयोग में शिकायत दर्ज कराई है. प्रदेश में ईवीएम मशीनों की सुरक्षा में कमी होने पर भी हमने शिकायत दर्ज कराई है. हमने मतदान के दौरान बदली गई ईवीएम मशीनों की भी जानकारी आयोग से मांगी है.’’ मध्यप्रदेश कांग्रेस इकाई ने अपने टि्वटर हैंडल पर डाक मतपत्रों के कूड़े में मिलने से संबंधित एक वीडियो भी जारी किया है. इस आधार पर पार्टी ने चुनाव आयोग से त्वरित कार्रवाई की मांग की है.

भाजपा नेता प्रभात झा बोले- ‘अबकी बार 200 पार’ नारा था, जरूरी नहीं कि यह हकीकत में बदले

उन्होंने कहा कि यह डाक मतपत्र सर्विस वोटरों को दिए जाने चाहिए थे, जो कि बाहर पदस्थ हैं. ऐसा मालूम होता है कि नियमानुसार ये मतपत्र भेजे ही नहीं गए. धनोपिया ने कहा कि कांग्रेस ने इस बात पर भी आपत्ति दर्ज कराई है कि चुनाव आयोग ने उनकी अब तक की दर्ज की गई शिकायतों पर कोई कार्रवाई नहीं की है. प्रदेश कांग्रेस की मीडिया प्रकोष्ठ की प्रमुख शोभा ओझा ने एक खाली डाक मतपत्र संवाददातों को दिखाया और आरोप लगाया कि होमगार्ड के अधिकारियों ने जवानों को डाक मतपत्र बुधवार, पांच दिसंबर को दिए. उन्होंने दावा किया कि जबकि यह डाक मतपत्र एक दिन बाद 29 नवंबर तक चुनाव आयोग को भेजना चाहिए था.

मध्य प्रदेश में कांग्रेस जीते या बीजेपी, पर चुनाव आयोग की साख दांव पर है

इस मामले में शाम को चुनाव आयोग द्वारा एक विज्ञप्ति में बताया गया कि पुलिस मुख्यालय की कैंटीन में बड़ी संख्या में डाक मतपत्र पाए जाने की घटना की जांच प्रदेश के पुलिस महानिदेशक और कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी भोपाल से कराई गई. जांच में पाया गया कि कैंटीन की एक टेबल पर तीन डाकमत पत्र पोस्टबाक्स में डालने के लिए रखे हुए थे. डाकिये द्वारा आज तक 124 डाक मतपत्र संबंधितों को अलग-अलग न देते हुए पते के आधार पर एक साथ जिला कमाण्डेट होमगार्ड में पदस्थ एएसआई को दे दिए गए. होमगार्ड के कार्यालय द्वारा डाक मतपत्रों को सुरक्षित रखने में और त्वरित गति से संबंधित सैनिकों को देने में लापरवाही बरती गई है. इस संबंध में होमगार्ड महानिदेशक द्वारा एक एएसआई, एक आरक्षक और एक सैनिक के खिलाफ कार्यवाही की जा रही है. इसके साथ ही गृह विभाग ने होमगार्ड जिला कमाण्डेट को उक्त डाक मतपत्रों को संबंधित सैनिकों को तामील करने के निर्देश दिए हैं.