भोपाल: मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस के मामलों में तेजी से इजाफा देखने को मिल रहा है. यहां आज यानी मंगलवार के दिन उज्जैन में पदस्थ थानी प्रभारी यशवंत पाल का कोरोना संक्रमण के चलते इलाज के दौरान मौत हो गई. यशवंत पाल पिछले 12 दिनों से अस्पताल में भर्ती थे. यहां उनका इलाज चल रहा था. बता दें कि इससे 2 दिन पहले ही इंदौर में थानी प्रभारी देवेंद्र कुमार चंद्रवंशी का कोरोना वायरस के कारण मौत हो गई थी. Also Read - क्या कोरोना की संभावित तीसरी लहर में ज्यादा प्रभावित होंगे बच्चे? जानें नए सर्वे में क्या आया सामने...

बता दें कि थानी प्रभारी यशवंत पाल की मौत पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दुख जताया है. उन्होंने ट्वीट कर लिखा- दुख की घड़ी में दिवंगत यशवंत पाल जी के परिवार के साथ पूरा प्रदेश खड़ा है. शोकाकुल परिवार को राज्य शासन की ओर से सुरक्षा कवच के रूप में 50 लाख रुपये, असाधारण पेंशन, बेटी फाल्गुनी को उपनिरीक्षक पद पर नियुक्ति व स्व, पाल को मरणोपरांत कर्मवीर पदक से सम्मानित किया जाएगा. उन्होंने आगे लिखा कि COVID-19 से लड़ते हुए कर्तव्य की बलिवेदी पर प्राण त्याग देने वाले उज्जैन नीलगंगा के थाना प्रभारी श्री यशवंत पाल जी को विनम्र श्रद्धांजलि. ईश्वर उनकी पुण्य आत्मा को अपने चरणों में स्थान दे. Also Read - International Yoga Day 2021: संयुक्त राष्ट्र ने कहा, कोरोना काल में एंग्जाइटी से लड़ने के लिए फायदेमंद है योग

बता दें कि मध्य प्रदेश में अबतक कोरोना वायरस के कुल 1485 मामले सामने आ चुके हैं. इसमें से 127 लोगों को इलाज कर ठीक किया जा चुका है. वहीं कोरोना संक्रमण से मरने वालों की संख्या राज्य में 74 हो चुकी है. मध्य प्रदेश का इंदौर शहर कोरोना वायरस का हॉटस्पॉट बन चुका है. इंदौर को लोग भारत का वुहान भी कह रहे हैं. बता दें कि बीते दिनों इंदौर में डॉक्टरों व पुलिसकर्मियों पर पथराव की घटना भी सामने आई थी, जिसके बाद शिवराज सिंह चौहान ने कड़ी चेतावनी देते हुए कहा था कि सुरक्षाकर्मियों और डॉक्टरों जो कोरोना के खिलाफ जंग में देश की मदद कर रहे हैं, उनपर हमला करना निंदनीय है. साथ ही आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.