इंदौर: देश में कोरोना वायरस के प्रकोप से सबसे ज्यादा प्रभावित जिलों में शामिल इंदौर में इस महामारी से दो और मरीजों की मौत हो गई है. इसके साथ ही, जिले में इस महामारी की चपेट में आकर दम तोड़ने वाले मरीजों की तादाद बढ़कर 83 पर पहुंच गयी है. Also Read - महाराष्‍ट्र में कोरोना से आज 85 मौतें के साथ अब तक करीब 2000 मृत, कुल 60 हजार पॉजिटिव केस

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमएचओ) प्रवीण जड़िया ने बृहस्पतिवार को बताया कि कोविड-19 से संक्रमित दो मरीजों ने शहर के अलग-अलग अस्पतालों में पिछले दो दिनों में आखिरी सांस ली. Also Read - ICC Meeting: टी20 विश्‍व कप 2020 के भविष्‍य को लेकर फैसला 10 जून तक स्‍थगित

उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस के शिकार मरीजों में शामिल 50 वर्षीय पुरुष मधुमेह, उच्च रक्तचाप और गुर्दे के गंभीर रोग से पहले ही पीड़ित था, जबकि 54 वर्षीय पुरुष सेप्सिस (रक्त विषाक्तता) से जूझ रहा था. Also Read - दिल्‍ली एम्स में अभी तक 195 स्वास्थ्यकर्मी कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं, 2 की जान गई

सीएमएचओ ने बताया कि जिले में पिछले 24 घंटे के दौरान कोरोना वायरस के 18 और मरीज मिले. इसके बाद इस महामारी की जद में आये लोगों की तादाद 1,681 से बढ़कर 1,699 पर पहुंच गई है. हालांकि, इनमें से 595 मरीजों को इलाज के बाद संक्रमणमुक्त होने पर अस्पतालों से छुट्टी दी जा चुकी है.

ताजा आंकड़ों के विश्लेषण से पता चलता है कि रेड जोन में शामिल इंदौर जिले में बृहस्पतिवार सुबह की स्थिति में कोविड-19 के मरीजों की मृत्यु दर 4.88 प्रतिशत थी. पिछले 11 दिन से जिले में इस महामारी के मरीजों की मृत्यु दर पांच प्रतिशत से कम बनी हुई है.

इंदौर में कोरोना वायरस का पहला मरीज मिलने के बाद से प्रशासन ने 25 मार्च से शहरी सीमा में कर्फ्यू लगा रखा है, जबकि जिले के अन्य स्थानों पर सख्त लॉकडाउन लागू है.