इंदौर: मध्य प्रदेश में कोरोनो संक्रमित लोगों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी देखने को मिल रही है. यहां कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या 99 है. इसमें 77 मरीज अकेले इंदौर से हैं. ऐसे में इदौर में आज एक मेडिकल टीम पहुंची. मेडिकल टीम इंदौर में कोरोना संक्रमित लोगों का पता लगाने पहुंची थी, मेडिकल टीम इंदौर के टाटपट्टी बाखल इलाके में जैसे ही पहुंची वहां के लोगों द्वारा डॉक्टरों की टीम पर जमकर पत्थरबाजी की गई इस घटना में दो महिला डॉक्टर घायल हो गई. इस घटना में अन्य तीन डॉक्टरों को पुलिस द्वारा बचाकर सुरक्षित निकाला गया. Also Read - कोरोना: महाराष्ट्र में 24 घंटे में रिकॉर्ड 123 मौतें, संक्रमितों की संख्या 78 हज़ार के करीब, मौत का आंकड़ा 2700 पार

हुआं यूं की इंदौर स्वास्थ्य विभाग को पता चला कि इस इलाके में कुछ लोग कोरोना संक्रमित शख्स के संपर्क में आए हैं. इसलिए सुरक्षा के मद्देनजर 5 सदस्यीय मेडिकल टीम को फौरन इंदौर के टाटपट्टी बखाल इलाके में भेजा गया ताकि कोरोना पीड़ित के संपर्क में आए लोगों की स्क्रीनिंग की जा सके. इस दौरान मेडिकल टीम ने जैसे पूछताछ शुरु की, लोगों ने इसका विरोध करना शुरु कर दिया और बाद में इनमें से कुछ स्वास्थ्य विभाग की टीम पर पथराव करना शुरु कर दिया. इसके बाद फौरन पुलिस ने मामले को संभालते हुए डॉक्टरों को वहां से सुरक्षित निकाला. पुलिस ने बताया कि पत्थरबाजी की घटना में 2 महिला डॉक्टरों को चोट आई है. Also Read - भारतीय कंपनी ने कोरोना वायरस के इलाज के लिए इस आयुर्वेदिक दवा का शुरू किया क्लिनिकल ट्रायल

इंदौर के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर प्रवीण जादिया ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है. मेडिकल टीम वहां लोगों को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाने की कोशिश कर रही थी, लेकिन उनपर पथराव किया गया. इस घटना में 2 महिला डॉक्टरों को चोटे आई हैं. उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग की टीम में तहसीलदार के वाहन के अंदर छिपकर अपनी जान बचाई. हालांकि इस बाबत छत्रीपुर पुलिस थाने में मामला दर्ज कर लिया गया है. एक पुलिस अधिकारीने बताया कि पत्थरबाजों ने पुलिस बैरिकेड्स भी तोड़ दिए.