इंदौर: मध्यप्रदेश के इंदौर में कोरोना वायरस संक्रमण से गुरूवार सुबह 65 वर्षीय महिला और 54 वर्षीय पुरुष के दम तोड़ने के साथ ही सूबे में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की मौत की संख्या बढ़कर आठ पर पहुंच गई है. Also Read - IRCTC Indian Railways: इन 40 मार्गों पर रेलवे का प्रदर्शन रहा शानदार, इसलिए चलाई जाएंगी और ट्रेनें

बता दें कि राज्य में इस महामारी से संक्रमित होने के बाद इलाज के दौरान दम तोड़ने वाले 8 लोगों में इंदौर के 5, उज्जैन के दो और खरगोन का एक मरीज शामिल हैं. Also Read - IRCTC Indian Railways: कुछ खास रूट्स पर बढ़ाई जाएंगी ट्रेनों की संख्या, रेल मंत्री बोले- बनाएंगे रिकॉर्ड

शासकीय महात्मा गांधी स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय के एक अधिकारी ने बताया कि कोरोना वायरस संक्रमण से शहर के मोती तबेला इलाके में रहने वाले 54 वर्षीय पुरुष ने महाराजा यशवंतराव चिकित्सालय (एमवायएच) में आखिरी सांस ली. उसे 29 मार्च को अस्पताल में भर्ती किया गया था. Also Read - Complete Lockdown in Bihar: कल से बिहार में पूर्ण लॉकडाउन, जानिए खुलने वाली चीजों की पूरी लिस्ट

उन्होंने बताया, “मरीज को पिछले दो दिन से सांस लेने में काफी तकलीफ हो रही थी. उसे पिछले 15 दिन से बुखार आ रहा था. हालांकि, उसे सर्दी-खांसी की समस्या नहीं थी.” अधिकारी ने बताया कि मरीज ने पिछले दिनों कोई यात्रा नहीं की थी. अब तक इस बात का पता नहीं चल सका है कि क्या वह किसी कोरोना वायरस संक्रमित के संपर्क में आया था.

इससे पहले, शहर के खजराना इलाके में रहने वाली 65 वर्षीय महिला ने मनोरमा राजे टीबी (एमआरटीबी) चिकित्सालय में बृहस्पतिवार सुबह ही आखिरी सांस ली.

अधिकारी ने बताया कि कोरोना वायरस संक्रमण से दम तोड़ने वाली महिला मधुमेह और थायराइड से पहले ही पीड़ित थी. उसने पिछले दिनों कोई यात्रा नहीं की थी. इस बात का पता नहीं चल सका है कि क्या वह किसी कोरोना वायरस संक्रमित के संपर्क में आयी थी.

अधिकारी ने बताया कि कोरोना वायरस से संक्रमित दोनों मरीजों ने बृहस्पतिवार सुबह आधे घंटे के अंतराल में दम तोड़ा.

अधिकारी ने बताया, “मरीज को सर्दी-खांसी, बुखार और कमजोरी की शिकायत के साथ अस्पताल में 29 मार्च को भर्ती किया गया था. हालत बिगड़ने पर उसे जीवन रक्षक यंत्र (वेंटिलेटर) पर भी रखा गया था. लेकिन डॉक्टरों की तमाम कोशिशों के बावजूद उनकी जान नहीं बचायी जा सकी.”

अधिकारी ने बताया कि महिला मधुमेह और थायराइड से पहले ही पीड़ित थी. उसने पिछले दिनों कोई यात्रा नहीं की थी. अब तक इस बात का पता नहीं चल सका है कि क्या वह किसी कोरोना वायरस संक्रमित के संपर्क में आयी थी या नहीं.

अब तक मिली रिपोर्टों के मुताबिक, राज्‍य में कुल 98 लोग कोरोना वायरस संक्रमण की जद में आये हैं. इनमें इंदौर के सर्वाधिक 75 मरीज शामिल हैं. इसके अलावा, जबलपुर के 8, उज्जैन के 6, भोपाल के 4 और शिवपुरी एवं ग्वालियर के दो-दो मरीजों और खरगोन के एक मरीज में भी कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई है.

राज्य में इस महामारी से संक्रमित होने के बाद इलाज के दौरान दम तोड़ने वाले 7 लोगों में इंदौर के चार, उज्जैन के दो और खरगोन का एक मरीज शामिल हैं. प्रदेश के पश्चिमी हिस्से से ताल्लुक रखने वाले इन लोगों को अन्य बीमारियां भी थीं.