बैतूल (मध्य प्रदेश): मध्य प्रदेश (Rape in Madhya Pradesh) में हैवानियत का एक और मामला सामने आया है. एक 13 साल की दलित लड़की के साथ 38 साल के शख्स ने रेप (Rape) किया. इसके बाद बेहोशी की हालत में एक गड्ढे में फेंक दिया. इसके बाद गड्ढे को ईंटों और मिट्टी से भर दिया. परिजनों ने जब लड़की की तलाश की तो उसे गड्ढे में पाया. लड़की को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. अस्पताल में उसकी हालत गंभीर बनी हुई है. पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है. Also Read - Gang Rape: 12 साल की लड़की ने जिस लड़के से फोन पर की दोस्ती, उसने दोस्तों के साथ मिलकर...

पुलिस अधीक्षक सिमाला प्रसाद ने आज बताया कि यह घटना जिले के सारणी थाना क्षेत्र के एक गांव में हुई. पुलिस ने आरोपी सुनील वर्मा को संबद्ध धाराओं में गिरफ्तार कर लिया है. उन्होंने बताया कि पीड़िता की हालत गंभीर है और उसे पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र में नागपुर के एक अस्पताल में भर्ती किया गया है. एसपी ने शिकायत के हवाले से बताया कि लड़की अपने खेत पर शाम को पानी की मोटर का स्विच बंद करने के लिये गयी थी. वहां उसे अकेला पाकर पास के खेत मालिक सुनील वर्मा ने कथित तौर पर उसके साथ बलात्कार किया. Also Read - 12 की उम्र में गैंगरेप के बाद हुई प्रेग्नेंट, जन्मे बच्चे ने 27 साल बाद मां से पूछा- मेरा पिता कौन, फिर...

प्रसाद ने बताया कि अपराध को छिपाने के लिये आरोपी ने बाद में बालिका को घसीटकर एक नाले के पास एक गड्ढे में फेंक दिया और फिर पत्थरों और कांटेदार झाड़ियों से उसे ढक दिया. उन्होंने बताया कि जब देर शाम बालिका घर वापस नहीं पहुंची तो उसके परिजनों ने उसकी तलाश शुरू कर दी. तलाश के दौरान पीड़िता की बहन गड्ढे के पास पहुंची तो उसे किसी के दर्द से कराहने की आवाज सुनाई दी. Also Read - Rajasthan: हनुमानगढ़ में जिंदा जलाई गई रेप पीड़िता की अस्‍पताल में इलाज के दौरान मौत

एसपी ने बताया कि इस पर उसने तुरंत अपने पिता को फोन कर मौके पर बुलाया और झाड़ियों और पत्थरों को हटाने के बाद पीड़िता को घायल अवस्था में गड्ढे से बाहर निकाला. उन्होंने बताया कि परिजन पहले लड़की को घोड़ाडोंगरी के सिविल अस्पताल लेकर गये तथा प्राथमिक उपचार के बाद उसे जिला अस्पताल ले जाया गया. चूंकि बालिका की हालत गंभीर थी इसलिये उसे उपचार के लिये नागपुर के अस्पताल में रेफर कर दिया. एसपी ने बताया कि पीड़िता की शिकायत पर आरोपी के खिलाफ भादंवि, एसटी/एससी अत्याचार निवारण अधिनियम और पॉक्सो अधिनियम की धाराओं के तहत मामला दर्ज कर उसे गांव से गिरफ्तार किया गया है.