छतरपुर (मध्यप्रदेश): करीब तीन महीने पहले तीन साल की मासूम बच्ची को अपनी हवश का शिकार बनाने वाले 19 वर्षीय एक युवक को स्थानीय कोर्ट ने घटना के 106 दिन बाद सोमवार को मृत्युदंड की सजा सुनाई है. छतरपुर न्यायालय की चतुर्थ अपर सत्र न्यायाधीश नोरिन निगम की अदालत ने तीन साल की बच्ची के साथ बलात्कार करने के मामले में तोहीद मुसलमान को दोषी ठहराते हुए मृत्युदंड की सजा सुनाई है. Also Read - बांग्लादेश में फांसी की सजा पाने वाले शख्स को क्राइम ब्रांच ने दिल्ली में पकड़ा, कई जघन्य अपराधों का है यह दोषी

अदालत ने तोहीद को आईपीसी की धारा 376 (क) एवं (ख) में मृत्युदंड की सजा सुनाई है. इसके अलावा, अदालत ने उसे आईपीसी की धारा 450 (अपजीवन कारावास से दंडनीय अपराध को करने के लिए गृह-अतिचार) में 10 वर्ष की सश्रम कारावास से एवं 2,000 रुपए के अर्थदंड से दंडित भी किया है. Also Read - दिल्‍ली में 12 साल की लड़की का यौन उत्‍पीड़न और हमला, एम्‍स में चल रहा इलाज

24 अप्रैल 2018 की रात करीब 10:00 बजे तोहीद ने इस बच्ची के साथ उसके घर में घुसकर उस वक्त दुष्कर्म किया था, जब वह घर में अकेली सो रही थी. बच्ची की मां घर के बाहर थी. इसी बीच, बच्ची की रोने की आवाज सुनकर पीड़िता की मां अचानक घर में गई और उसने उसे दुष्कर्म करते देख लिया था. बाद में मां ने चिल्लाकर मोहल्ले के लोगों को बुलाया और आरोपी को पकड़कर पुलिस के हवाले किया था. इसके बाद, पीड़िता की मां की रिपोर्ट पर थाना राजनगर में आईपीसी की धारा 376 (क) एवं (ख), 450 और पॉक्सो एक्ट के तहत तोहीद के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था. Also Read - Lockdown 2.0: पैदल चलने के कारण 12 साल की बच्ची ने गंवाई जान, घर से 50 किलोमीटर पहले हुई मौत