मुरैना/ भोपाल: मध्यप्रदेश के मुरैना जिले के दो गांवों मानपुर और पहावाली में सोमवार रात को जहरीली शराब पीने से मरने वालों का आंकड़ा बढ़कर आज बुधवार को 20 हो गया है और बीमार 14 लोगों का इलाज चल रहा है. बता दें कि कल मंगलवार तक मध्‍य प्रदेश मुरैना जिले में जहरीली शराब पीने से 14 लोगों की मौत हो चुकी थी. इसके बाद 6 और बीमारों की मौत हो गई. इस तरह से मध्‍य प्रदेश में शराब पीने से मरने वालों का आंकड़ा 20 हो गया है. वहीं, दुघर्टना के आदेश के बाद कमिश्नर ग्वालियर-चंबल के  द्वारा गठि जांच दल के से इस हादसे की जांच कर रहा है.Also Read - भारत में 2 सालों में पेड़, वन क्षेत्र में 2261 वर्ग KM की बढ़ोतरी हुई : ISFR Report

भोपाल में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मुरैना में कल जहरीली शराब पीने से 20 लोगों की मौत होने को लेकर एक उच्च स्तरीय बैठक की है. इसके बाद जहरीली शराब से मौतों के मामले में मुरैना के जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक (एसपी) को तत्काल प्रभाव से उनके पद से हटा दिया गया है. Also Read - 50% कैपसिटी के साथ चलते रहेंगे स्‍कूल, फिलहाल नहीं होंगे बंद: सीएम शिवराज सिंह चौहान

Also Read - Covid Update: Mask नहीं लगाने वालों पर इस राज्य में सख्ती, अब नहीं मिलेगा पेट्रोल-डीजल

बता दें कि मध्यप्रदेश में मुरैना जिले के दो गांवों मानपुर और पहावाली में सोमवार रात को जहरीली शराब पीने से मंगलवार तक 14 लोगों की मौत हो चुकी थी और 20 लोग गंभीर रूप से बीमार थे. अब इस मामले में दो मुख्य आरोपियों को हिरासत में ले लिया गया है और लापरवाही बरतने के लिए दो अधिकारियों को निलंबित किया गया था.

आज मृतकों की संख्‍या बढ़ने से पहले मंगलवार रात को चंबल के उप पुलिस महानिरीक्षक (डीआईजी) राजेश हिंगणकर ने मीडिया को बताया था, ”दो और लोगों की उपचार के दौरान ग्वालियर के जयरोग्य अस्पताल में मौत हो गई है. इसी के साथ संदिग्ध अवैध शराब पीने से 14 लोगों की मौत हो गई. उन्होंने कहा, ” इस शराब के सेवन से बीमार हुए कुछ और लोग यहां पहुंचे हैं, जिससे बीमार हुए लोगों की संख्या बढ़कर 20 हो गई है. इन सभी का इलाज अस्पतालों में चल रहा है. हिंगणकर ने बताया कि इस मामले में अवैध शराब बेचने वाले दो मुख्य आरोपियों को हिरासत में ले लिया गया है तथा उनसे पूछताछ जारी है. उन्होंने कहा कि भादंवि की धारा 304 और आबकारी अधिनियम की संबद्ध धाराओं में मामला दर्ज किया गया है.

बता दें इससे पहले अक्टूबर माह में उज्जैन में भी जहरीली शराब पीने से 14 लोगों की मौत हो गई थी.

घटना पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा था, ”मुरैना में जहरीली शराब दुर्घटना अत्यंत दु:खद एवं दुर्भाग्यपूर्ण है. दुर्घटना की जांच के आदेश दिए गए हैं. कमिश्नर ग्वालियर-चंबल ने जांच दल बनाया है, जिसने जांच प्रारंभ कर दी है. जो भी व्यक्ति दोषी होंगे, उनके विरुद्ध कठोर कार्रवाई होगी. घटना में प्रथमदृष्टया सुपरविजन में लापरवाही पाए जाने पर, जिला आबकारी अधिकारी मुरैना को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है. इस बीच अवैध शराब से पीने से हुई मौतों को लेकर पुलिस अधिकारी को भी निलंबित किया गया है.

बता दें पहले मंगलवार सुबह को जिला पुलिस अधीक्षक अनुराग सुजानिया ने बताया कि यह घटना जिला मुख्यालय से लगभग 14 किलोमीटर दूर मानपुर और पहावाली गांवों में हुई. मंगलवार के सुबह जहरीली शराब पीने से मानपुर और पहावाली गांव के 11 लोगों की मौत हो गई थी और आठ लोग गंभीर रूप से बीमार हो गए थे. प्रथमदृष्टया मिली जानकारी के अनुसार सोमवार रात ग्रामीणों ने देशी सफेद रंग की पवों में भरकर लाई गई शराब का सेवन किया था, जिसे पीने वालों की हालत बिगड़ने लगी और 11 लोगों की मौत हो गई और बाकी बीमार लोगों को उपचार के लिए ग्वालियर के अस्पताल में भेजा गया था.