Delhi Election Result 2020:
नई दिल्‍ली: कांग्रेस के सीनियर नेता ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया ने दिल्‍ली विधानसभा चुनाव 2020 के नतीजों के मद्देनजर पार्टी को नई आइडियोलॉजी और काम करने की नई प्रक्रिया की तत्‍काल जरूरत पर जोर दिया है. सिंधिया ने Delhi ElectionResult 2020 पर अपनी प्रतिक्रिया में कहा, यह हमारी पार्टी के लिए बहुत अधिक निराशाजनक है. एक नई आइडियोलॉजी और एक नई कार्य प्रणाली की तत्‍काल जरूरत है. देश बदल गया है, इसलिए हमें नए तरीके से सोचने और देश के लोगों के साथ जुड़ने का विकल्प चुनना होगा.

सिंधिया ने मध्‍य प्रदेश के टीकमगढ़ जिले के पृथ्वीपुर में संवाददाताओं से कहा कि दिल्ली विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की पराजय दुर्भाग्यपूर्ण है. उन्होंने कहा कि देश बदल रहा है इसी तरह लोगों की सोच भी बदल रही है. उन्होंने कहा, ”हमें (कांग्रेस) बदलना होगा और लोगों के बीच नए दृष्टिकोण के साथ पहुंचना होगा.”

बता दें कि सिंधिया का यह बयान दिल्‍ली विधानसभा के नतीजे आने के दो दिन बाद गुरुवार को आया है. दिल्‍ली विधानसभा में खराब प्रदर्शन को लेकर पार्टी के नेताओं के बीच एक-दूसरे पर आरोप लगाने का भी सिलसिला चला. इसके चलते हाईकमान को पार्टी के सीनियर नेताओं को बयान जारी कर नशीहत तक देना पड़ी.

गौरतलब है कि दिल्ली विधानसभा चुनाव में कांग्रेस का बेहद खराब प्रदर्शन रहा है. आप ने 62 सीटें हासिल करके शानदार जीत दर्ज की, बीजेपी को 8 सीटें मिल सकी, जबकि कांग्रेस एक भी सीट जीतकर अपना खाता तक भी नहीं खोल पाई.

कांग्रेस के 66 में 63 प्रत्याशियों की जमानत जब्त
दिल्ली विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने अब तक का सबसे खराब प्रदर्शन किया है और चुनाव परिणामों के मुताबिक पार्टी को पांच फीसदी से भी कम वोट मिले हैं. कांग्रेस के 63 उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई. पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के नेतृत्व में दिल्ली में 15 साल तक शासन करने वाली कांग्रेस लगातार दूसरी बार विधानसभा चुनाव में एक भी सीट जीतने में नाकाम रही.

घोषणापत्र को पूरा लागू नहीं हुआ तो सड़कों पर उतरूंगा
मध्‍य प्रदेश के टीकमगढ़ जिले में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने गुरुवार को कहा कि यदि मध्य प्रदेश में सरकार पार्टी के घोषणापत्र को पूरा लागू नहीं करती है तो वह सड़कों पर उतरेगें. उन्होंने दिल्ली चुनाव में पार्टी की हार के बाद सोच बदलने की भी जरूरत बताई.

मैंने आपकी आवाज उठाई थी
संत रविदास जयंती के अवसर पर जिले में कुडीला गांव में एक सभा को सम्बोधित करते हुए सिंधिया ने कहा, ” मैं अतिथि शिक्षकों को मैं कहना चाहता हूं. आपकी मांग मैंने चुनाव के पहले भी सुनी थीं. मैंने आपकी आवाज उठाई थी और ये विश्वास मैं आपको दिलाना चाहता हूं कि आपकी मांग जो हमारी सरकार के घोषणापत्र में अंकित है, वो घोषणापत्र हमारे लिए हमारा ग्रंथ है.’’

आपकी ढाल भी मैं बनूंगा और आपका तलवार भी मैं बनूंगा
ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अतिथि शिक्षकों को सब्र रखने की सलाह देते हुए कहा, ”अगर उस घोषणापत्र का एक-एक अंग पूरा न हुआ तो अपने को सड़क पर अकेले मत समझना. आपके साथ सड़क पर ज्योतिरादित्य सिंधिया भी उतरेगा. सरकार अभी बनी है, एक वर्ष हुआ है. थोड़ा सब्र हमारे शिक्षकों को रखना होगा. बारी हमारी आयेगी, ये विश्वास, मैं आपको दिलाता हूं और अगर बारी न आये तो चिंता मत करो, आपकी ढाल भी मैं बनूंगा और आपका तलवार भी मैं बनूंगा.” इ