भोपाल: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्वियज सिंह ने गुरुवार को शिवराज सिंह चौहान सहित कुछ अन्य भाजपा नेताओं का नाम लेकर उनपर मध्यप्रदेश की कांग्रेस सरकार को गिराने के लिए विधायकों की खरीद फरोख्त में शामिल होने का आरोप लगाया. Also Read - Coronavirus: मध्य प्रदेश में 19 नए मामले, इंदौर में 17 और लोग हुए संक्रमण का शिकार, राज्य में कुल 66 लोग संक्रमित

मध्यप्रदेश में मंगलवार रात से शुरु हुए हाई वोल्टेज राजनीतिक ड्रामे में कांग्रेस ने दावा किया कि मुख्यमंत्री कमलनाथ के नेतृत्व वाली प्रदेश कांग्रेस सरकार को गिराने की साजिश के तहत भाजपा ने प्रदेश के आठ विधायकों को हरियाणा के एक होटल में रखा. गुरुवार सुबह कांग्रेस ने नई दिल्ली में संवाददाता सम्मेलन में दावा किया कि सरकार गिराने के लिए भाजपा ने 14 विधायकों का अपहरण किया है. Also Read - मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण से एक और मौत, प्रदेश में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 47 हुई

दिग्विजय ने आज सुबह ट्वीट कर शिवराज सिंह चौहान सहित भाजपा के पांच नेताओं का नाम लेते हुए उन पर विधायकों की खरीद फरोख्त का आरोप लगाया. उन्होंने लिखा है, ”मध्यप्रदेश में भाजपा की हार्स ट्रेडिंग खुल कर सामने आ गई. लेकिन उनके मंसूबे पूरे नहीं हुए. सभी विधायकों को आभार.’’ Also Read - कांग्रेस ने सामूहिक पलायन पर सरकार से पूछे सवाल, कहा- गरीबों की जिंदगी मायने रखती है या नहीं

दिग्विजय सिंह ने ट्वीट किया, ” भाजपा में इस हार्स ट्रेडिंग के लिए ज़िम्मेदार 1- शिवराज चौहान, 2- नरोत्तम मिश्रा, 3- संजय पाठक, 4- विश्वास सारंग, 5- भूपेंद्र सिंह. मोदी, शाह जी काला धन आप की पार्टी में ही है, आप विदेशों में कहां ढूढ़ते हो.”

बता दें कि नरोत्तम मिश्रा, विश्वास सारंग, संजय पाठक और भूपेंद्र सिंह मध्यप्रदेश की पूर्ववर्ती भाजपा सरकार में मंत्री थे.

इससे पहले सोमवार को दिग्विजय ने नयी दिल्ली में पत्रकारों से बात करते हुए आरोप लगाया था कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार को गिराने के लिए भाजपा नेताओं ने कांग्रेस के विधायकों को बड़ी धनराशि की पेशकश की है. हालांकि, प्रदेश भाजपा ने इस पूरे घटनाक्रम को सत्तारुढ़ दल कांग्रेस का आंतरिक कलह बताया है.

भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने कहा, ”दिग्विजय सिंह झूठ बोल रहे हैं. इस पूरे प्रकरण ने कांग्रेस की अंदरुनी कलह को उजागर किया है. कथित तौर पर इस पूरे प्रकरण में शामिल किसी भी विधायक ने भाजपा पर आरोप नहीं लगाए हैं.”

अग्रवाल ने कहा कि बसपा, सपा और यहां तक कि दिल्ली से वापस लौटे कांग्रेस के विधायक भी खरीद फरोख्त के आरोपों से इनकार कर रहे हैं.

भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता ने कहा, ”यह कांग्रेस द्वारा रची गई साजिश थी जो अब उजागर हो गई है. भाजपा का इस पूरे प्रकरण से कोई लेना देना नहीं है.”