नई दिल्‍ली: बीजेपी-कांग्रेस के बीच राजीव गांधी फाउंडेशन के चीन से मिले डोनेशन को लेकर जहां सियासी जंग छिड़ी हुई है,
वहीं, कांग्रेस नेता दिग्‍व‍िजय सिंह ने इस मामले में साइड से एंट्री लेते हुए माइक्रो ब्‍लॉगिंग साइट टि्वटर पर हमला बोला है
और पूछा है कि क्या ट्विटर भारत में किसी शक्तिशाली व्‍यक्ति के निर्देशों पर काम कर रहा है? Also Read - बिहार में कांग्रेस की 'एकला चलो' की होगी रणनीति! 'महा-गंठबंधन' का टूटा अब बंधन

मध्‍य प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री दिग्‍जिय सिंह ने ट्वीट किया है , क्या ट्विटर भारत में किसी शक्तिशाली व्‍यक्ति के निर्देशों पर काम कर रहा है? राजीव गांधी फाउंडेशन का एक हानिरहित सूचनात्मक वीडियो ट्विटर पर क्यों स्वीकार नहीं किया जा रहा है? हालाकि, दूसरे दिन फेसबुक पर शेयर किए गए इस वीडियो का लिंक ट्विटर पर स्‍वीकार हो गया. Also Read - विकास दुबे की गिरफ्तारी पर कांग्रेस ने खड़े किए सवाल, नरोत्तम मिश्रा से जोड़ा गैंगस्टर का लिंक

Also Read - कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से किए 4 सवाल, कहा- क्या भारत के दावे को गलवान घाटी में कमजोर किया जा रहा है?

कांग्रेस नेता सिंह ने ट्वीट किया है, ”क्या ट्विटर भारत में किसी के शक्तिशाली होने के निर्देशों पर काम कर रहा है? राजीव
गांधी फाउंडेशन का एक हानिरहित सूचनात्मक वीडियो ट्विटर पर क्यों स्वीकार नहीं किया जा रहा है? ट्विटर से मुझे इस मुद्दे
पर स्पष्टीकरण चाहिए. क्या वे जवाब देंगे? चलो देखते हैं. वर्ना मुझे कानूनी विकल्प तलाशने पड़ सकते हैं.”

सिंह ने फि‍र ट्वीट में कहा, यह वह वीडियो है जिसे मैं कल से ट्वीट करने की कोशिश कर रहा था जिसे ट्विटर द्वारा स्वीकार नहीं किया जा रहा था. अब मैंने अपने फेसबुक पर पोस्ट किया है और कॉपी किया है. इसे स्वीकार कर लिया गया. ऐसा करने से पहले मैंने फिर से इसे ट्विटर पर भेजने की कोशिश की थी और फिर इसे स्वीकार नहीं किया गया था!

दरअसल, कांग्रेस के सीनियर नेता सिंह ने एक राजीव गांधी फॉउंडेशन के बारे में तथाकथित एक जानकारी देने वाला एक
वीडियो शेयर किया था. सिंह का आरोप है कि टि्वटर इस वीडियो को स्‍वीकार नहीं कर रहा है.