भोपाल: मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक साथ मंच पर होने के बावजूद अपेक्षा के अनुरूप भीड़ न जुटने और खाली कुर्सियों की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल होना भाजपा की चिंता बढ़ाने वाली हैं. इन स्थितियों ने प्रदेश संगठन के साथ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को भी कटघरे में खड़ा कर दिया है. Also Read - कोरोना वायरस से मुकाबला के लिये पीएम मोदी ने की आपात राहत कोष की घोषणा, अक्षय कुमार ने दिए 25 करोड़

भाजपा ने लगातार चौथी बार विधानसभा चुनाव में जीत दर्ज कराने के लिए मंगलवार को राजधानी के जंबूरी मैदान में 10 लाख कार्यकर्ताओं को लाने का ऐलान किया था. भाजपा का दावा कुछ कमजोर नजर तब आया, जब सोशल मीडिया पर सैकड़ों खाली कुर्सियों और सोते कार्यकर्ताओं की तस्वीरें वायरल हुईं. Also Read - इस रेस्टोरेंट मालिक ने बनाया लजीज कोरोना बर्गर, बोले- 'कुछ डराए तो उसे खा जाएं...'

राजनीतिक विश्लेषक साजी थॉमस का कहना है, “भाजपा ने कार्यकर्ता महाकुंभ में 10 लाख कार्यकर्ताओं के आने का दावा किया था, मगर ऐसा हुआ नहीं. सरकार और संगठन ने ताकत भी झोंकी, उसके बाद भी 10 लाख कार्यकर्ता नहीं आए. सोशल मीडिया पर जो तस्वीरें आ रही हैं, वह भाजपा के लिए चिंता बढ़ाने वाली होंगी, इसे नकारा नहीं जा सकता. इसके बावजूद यह तो मानना ही होगा कि भाजपा के इस आयोजन में भीड़ कम नहीं थी, भले ही उसने लक्ष्य न पाया हो.” Also Read - Corona को हराने भारतीय रेलवे भी हुआ तैयार, ट्रेन की बोगियों को आइसोलेशन वार्ड में किया तब्दील

व्यापमं घोटाला: अब दिग्विजय सिंह, कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया के खिलाफ परिवाद पेश

भाजपा की प्रदेश इकाई ने दावा किया था कि इस महाकुंभ में 65 हजार बूथों से 10 लाख कार्यकर्ता आएंगे. प्रदेश संगठन के दावे पर पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने भी सवाल उठाए और उन्होंने आए कार्यकर्ताओं की संख्या पांच लाख से अधिक बताई.

एमपी विधानसभा चुनाव में भ्रष्टाचार ही होगा कांग्रेस का मुख्य मुद्दा: कमलनाथ

भाजपा के आयोजन पर कांग्रेस के प्रदेशायक्ष कमलनाथ ने सवाल उठाते हुए उसे फ्लॉप शो करार दिया है. कमलनाथ ने कहा, “सरकारी खजाने से करोड़ों रुपये खर्च करके किया गया यह आयोजन एक फ्लॉफ शो रहा. इससे प्रदेश की जनता को कोई फायदा नहीं हुआ. प्रदेश की जनता को इस महाकुंभ से सिर्फ निराशा ही हाथ लगी है. प्रदेशवासियों को उम्मीद थी कि महंगाई से निजात दिलाने के लिए कोई बड़ी घोषणा होगी. देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस आयोजन में आने से आर्थिक संकट से जूझ रहे प्रदेश को कोई बड़ी सौगात या बड़े पैकेज मिलने की उम्मीद थी, लेकिन निराशा हाथ लगी.”

कार्यकर्ता महाकुंभ में पीएम मोदी ने कहा- बोझ बन गई है कांग्रेस, देश के बाहर कर रही है गठबंधन

भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी लोकेंद्र पाराशर का आरोप है कि सोशल मीडिया पर जो वीडियो वायरल हो रहा है, वह कांग्रेस की हरकत है और आयोजन से पहले बनाया गया है. अमित शाह द्वारा पांच लाख से अधिक कार्यकर्ताओं का अनुमान लगाने की बात पर पाराशर ने कहा कि प्रदेश संगठन का अनुमान है कि 10 लाख के करीब कार्यकर्ता कुंभ में पहुंचे थे.