शिवपुरी: शिवपुरी से लगभग 55 किलोमीटर दूर सुल्तानगढ़ के पास एक झरने में 15 अगस्त को पानी की तेज धारा में बहकर लापता हुए नौ लोगों में से पांच के शव आज पार्वती नदी के अलग-अलग क्षेत्रों से मिले हैं. पानी की तेज धारा में चट्टानों पर फंसे लगभग 45 लोगों को हादसे के बाद चले राहत अभियान में पुलिस और स्थानीय लोगों की सहायता से सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया था. Also Read - पुलिस ने बेरोजगार हुए शख्स को चोरी करते पकड़ा, आपबीती सुन लेडी सब इंस्पेक्टर ने घर पहुंचाया राशन, फिर...

Also Read - बैंड-बाजा, खुली जीप और फूल मालाएं... पुलिस अफसर ने कोरोना से जीती जंग तो 'हीरो' की तरह हुआ स्वागत

चार लापता लोगों की तलाश जारी Also Read - जान गंवाने वाले कोरोना योद्धा पुलिस अफसर की बेटी बनी सब इंस्पेक्टर, शिवराज सरकार ने दी नौकरी

मोहना पुलिस थाने के प्रभारी निरीक्षक अमित कुमार ने आज बताया कि 15 अगस्त की दोपहर को हुए इस जल हादसे के बाद नौ लोगों के लापता होने की सूचना पुलिस थाने में दर्ज कराई गई थी. तलाश के दौरान आज इनमें से पांच लोगों के शव पार्वती नदी में अलग-अलग स्थानों पर पुलिस एवं स्थानीय ग्रामीणों को मिले हैं.

MP के शिवपुरी जिले में पानी के तेज बहाव में फंसे 45 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला, 8 लापता

उन्होंने बताया कि इन पांच लोगों की शिनाख्त ग्वालियर के निवासी निशिकांत कुशवाहा, अभिषेक कुशवाहा, लोकेन्द्र कुशवाहा, सूरज और फैज खान के तौर पर हुई है. उन्होंने बताया कि शेष चार लापता लोगों की तलाश की जा रही है.

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार सुबह ट्वीट किया, झरने में पानी के तेज बहाव में फंसे लोगों को सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ), राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल, होम गार्ड, स्थानीय पुलिस और स्थानीय लोगों के सहायता से बाहर निकाल लिया गया है.

एमपी: झरने में पानी का बहाव अचानक तेज हुआ और बह गए 11 युवक, कई लोग फंसे

उल्लेखनीय है कि 15 अगस्त को अवकाश के चलते बड़ी संख्या में लोग सुल्तानगढ़ के पास झरने पर पिकनिक मनाने पहुंचे थे. झरने में नहाने के दौरान पानी का बहाव अचानक तेज होने से कई लोग धारा में बह गये और 45 लोग तेज धारा के बीच चट्टानों पर फंस गये जिन्हें सुबह तक चले राहत अभियान में बाहर निकाल लिया गया. (इनपुट एजेंसी)