Flood In Madhya Pradesh: मध्यप्रदेश में भारी बारिश के कारण बाढ़ जैसी स्थिति पैदा हो गई है. बाढ़ और बारिश के कारण ग्वालियर-चंबल संभाग के शिवपुरी, दतिया, श्योपुर, भिंड, ग्वालियर जिले प्रभावित हुए हैं. वहीं रीवा जिले के 1171 गांवों में बाढ़ से प्रभावित हुए हैं. साथ ही 200 गांवों में बाढ़ का पानी पहुंच चुका है. इस बाबत राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्य में बाढ़ की स्थिति का जायजा लिया.Also Read - यूपी: गणेश प्रतिमा विसर्जन के दौरान नदी में बहे पांच लोग, एक शव बरामद

बुधवार की सुबह उन्होंने आईजी ग्वालियर और बाढ़ ग्रस्त क्षेत्र के जिला प्रशासन से फोन पर बात की और मामले की समीक्षा की. बता दें कि रात भर बाढ़ प्रभावित इलाकों में रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया गया और लोगों को बचाया गया. वहीं मौसम के साफ होते ही वायु सेना का अभियान शुरू होगा. बता दें कि शिवराज सिंह चौहान आज फिर बाढ़ ग्रस्त इलाकों का दौरा करने वाले हैं. Also Read - Red Chilli in MP: मप्र के मिर्ची कारोबारी चाहते हैं ब्रांडिंग, अच्छी पैदावार के बावजूद मुसीबत में किसान

शिवराज सिंह के मुताबिक सेना के जवान आज रात नरवर और पोहरी इलाके में पहुंच जाएंगे और राहत बचाव कार्य को अंजाम देंगे. उन्होंने कहा कि एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमों द्वारा लगातार बाढ़ में फंसे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि बाढ़ प्रभावित गांवों के लोगों को सतर्क रहने की आवश्यकता है. हम आपकी चिंता कर रहे हैं. अफवाहों पर किसी तरह का ध्यान न दें. सभी बांध सुरक्षित हैं और सरकार द्वारा लोगों को बचान का व राहत बचाव का हर संभव प्रयास किया जा रहा है. Also Read - काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान: बाढ़ के पानी में डूबने से 24 दुर्लभ जानवरों की मौत, 17 हॉग हिरण भी मारे गए

मुख्यमंत्री ने बताया कि मौसम खराब होने के कारण सेना के हेलीकॉप्टर राहत और बचाव कार्य को अंजान नहीं दे पा रहे हैं. हालांकि मौसम के ठीक होते ही हेलीकॉप्टर पहुंच जाएंगे. मुख्यमंत्री नेक हा कि सभी मंत्री हालात पर नजर बनाए हुए हैं और वायुसेना के अधिकारियों से बातचीत जारी है. वहीं प्रभावित जिलों के कलेक्टरों से भी लगातार संपर्क में हैं.