नई दिल्लीः मध्य प्रदेश के कई जिलों में पिछले दो दिनों से लगातार बारिश होने के कारण बाढ़ के हालात उत्पन्न हो गए है. शनिवार को शुरू हुई बारिश सोमवार की सुबह तक जारी रही. तेज बारिश के कारण कई क्षेत्रों में पानी भर गया जिसने लोगों की परेशानियां बढ़ा दी हैं. भोपाल, रायसेन और मंडला सहित कई शहरों में स्कूल भी बंद कर दिए गए हैं. प्रशासन ने चेतावनी जारी करते हुए कहा कि अगले तीन से चार दिनों तक भारी मात्रा में बारीश होने की आशंका है.

CPL 2019: टीम की जीत के बाद मैदान में चीयरलीडर्स के साथ जमकर नाचे शाहरुख खान, देखें Video

दो दिन से हो रही बारिश के कारण प्रदेश में पूरा जन जीवन अस्त व्यस्त हो गया है. झील, नदी और नाले पूरी तरह से उफान पर हैं. मौसम विभाग के अधिकारियो ने लोगों से झीलों के किनारे नहीं जाने के लिए कहा है. बता दें अभी तक मंडला जिले में सबसे अधिक रिकॉर्ड 134 मिली मीटर बारिश हुई है. भोपाल में जिलाधिकारी ने सभी स्कूलों को बंद करने का आदेश दिया है. रविवार को भोपाल में 44 मिली मीटर बारिश हुई जिससे नीचले क्षेत्रों में जलभराव हो गया. मौसम विभाग ने आज भोपाल समेत 32 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया. इनमें भोपाल, रायसेन, विदिशा, मंडला, मंदसौर, सिवनी, जबलपुर, नरसिंहपुर, होशंगाबाद और हरदा आदि जिले शामिल हैं. शहर के कुछ इलाके इस हाल में हैं कि वहां नाव के माध्यम से लोग एक स्थान से दूसरे स्थान जा रहे हैं.

पत्रकार ने की छोटी सी गलती और देने पड़ गए एक बोतल बियर के लिए 49 लाख रुपए

भारी बारिश को देखते हुऐ रायसेन कलेक्टर उमाशंकर भार्गव ने आज सभी स्कूलों का अवकाश किया घोषित किया है और निचले इलाके में रहने वालों से किसी सुरक्षित स्थान में जाने के लिए कहा है. प्रदेश में बारिश के कहर को इस बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि नर्मदा नदी में बना बरगी बांध लगभग लगभग भर गया है जिस कारण बांध के 21 गेटों को खोलने का आदेश प्रशासन ने दिया है. विदिशा जिले में भी लगातार जारी मूसलाधार बारिश से जलभराव से बनी स्थिति को देखते हुए कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह ने जिले के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों और अनुदान प्राप्त संस्थाओं के लिए एक दिन का अवकाश घोषित करने का आदेश जारी किया है.

21 साल की उम्र में अगर धोनी की जगह लेने के बारे में सोचूंगा तो बहुत मुश्किल हो जाएगी : पंत

प्रदेश के जनसंपर्क मंत्री पी.सी शर्मा ने बाढ़ क्षेत्रों का दौरा किया और साथ ही जिलों के प्रशासन से बारिश को देखते हुए 24 घंटे कंट्रोल चालू रखने के आदेश दिए हैं. मंत्री शर्मा ने भोपाल के जिलाधिकारी को बाढ़ से प्रभावित परिवारों को तुरंत मदद पहुंचाने के भी आदेश दिेए हैं. बारिश के कारण सिवनी बैनगंगा नदी में तीन लोगों के बहने की भी खबर आई है लेकिन रेस्क्यू करके एक आदमी को बचा लिया गया है और दो लापता है. बता दें कि भोपाल में 58 साल बाद सितंबर के महीने में रिकार्ड बारिश दर्ज की गई है.