भोपाल: मध्य प्रदेश में दल-बदल का दौर जारी है. इसी क्रम में राज्‍य के सागर जिले की सुरखी विधानसभा क्षेत्र से बीजेपी विधायक रह चुकीं पारुल साहू ने शुक्रवार को पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ की मौजूदगी में कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण कर ली. Also Read - भूमि कानूनों में संशोधनों पर कांग्रेस ने कहा- जम्मू-कश्मीर की जनता छला हुआ महसूस कर रही है

बता दें कि इस विधानसभा से गत विधानसभा में पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक और कमलनाथ सरकार में मंत्री रहे गोविंद सिंह राजपूत जीते थे. बाद वह इस्‍तीफा देकर इस बीजेपी में शामिल हो गए थे. इस सीट पर होने जा रहे उप चुनाव में पारुल साहू कांग्रेस की ओर से उम्‍मीदवाद हो सकती है. Also Read - केंद्र के एग्रीकल्‍चर एक्‍ट को निष्‍प्रभावी करने के लिए छत्तीसगढ़ सरकार ने कृषि उपज मंडी संशोधन बिल 2020 पारित किया

बीजेपी की पूर्व विधायक पारुल साहू ने कमल नाथ के श्यामला हिल्स स्थित आवास पर आयोजित कार्यक्रम में अपने समर्थकों के साथ शुक्रवार को कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की. पारुल साहू ने साल 2013 में सुरखी विधानसभा से क्षेत्र भाजपा के उम्मीदवार के तौर पर जीत दर्ज की थी. पारुल के पिता संतोष साहू कांग्रेस से विधायक रह चुके हैं. Also Read - महबूबा मुफ्ती और फारूक अब्दुल्ला को भारत में रहने का अधिकार नहीं: केंद्रीय मंत्री

पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने पारुल के कांग्रेस में शामिल होने पर कहा कि यह उनकी घर वापसी है. पारुल के पिता कांग्रेस के बड़े नेता रहे हैं, उनके चाचा कांग्रेस के पदाधिकारी हैं.

बता दें कि सुरखी से विधायक रहे मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ कांग्रेस छोड़कर बीजेपी का दामन थामा था और यहां से बीजेपी के संभावित उम्मीदवार है. वहीं, पारुल साहू उप-चुनाव में सुरखी से कांग्रेस की उम्मीदवार हो सकती हैं.