इंदौर: मध्‍य प्रदेश के बहुचर्चित हनीट्रैप मामले लगातार संबंधित ऑडियो-वीडियो पर आधारित खबरें पिछले कई दिनों से प्रकाशित और प्रसारित करने वाले एक सांध्य दैनिक के मालिक और प्रधान संपादक जीतू सोनी के खिलाफ कार्रवाई जारी है. मानव तस्करी समेत कई आपराधिक मामलों में पिछले 10 दिन से फरार चल रहे इंदौर कारोबारी सोनी की अवैध सम्पत्तियों के खिलाफ जारी मुहिम में उसका बेशकीमती बंगला शहरी निकाय ने सोमवार को ढहा दिया. इस दौरान पुलिस बल की तैनाती भी की गई थी.

जीतू सोनी शहर के एक सांध्य दैनिक के मालिक और प्रधान संपादक भी हैं. यह अखबार प्रदेश के कुख्यात हनी ट्रैप मामले में फंसे राजनेताओं और नौकरशाही से जुड़े रसूखदार लोगों से कथित रूप से संबंधित ऑडियो-वीडियो पर आधारित खबरें पिछले कई दिनों से प्रकाशित और प्रसारित कर रहा था.

हनी ट्रैप मामले के शिकायतकर्ता और इंदौर नगर निगम के निलंबित अधीक्षण इंजीनियर हरभजन सिंह ने सांध्य दैनिक में छपी खबर को लेकर आईटी एक्ट के संबद्ध प्रावधानों के तहत प्राथमिकी दर्ज कराई थी. इसके बाद 30 नवंबर की रात से सोनी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की शुरूआत की गई थी.

हनी ट्रैप गिरोह की पांच महिलाओं और उनके वाहन चालक को भोपाल और इंदौर से सितंबर में गिरफ्तार किया गया था. गिरोह पर आरोप है कि वह खुफिया कैमरों से अंतरंग पलों के वीडियो बनाकर अपने “शिकारों” को इस आपत्तिजनक सामग्री के बूते ब्लैकमेल करता था.

इंदौर नगर निगम (आईएमसी) के अधिकारियों ने बताया कि शहर की शांतिकुंज कॉलोनी में जितेंद्र सोनी का करीब 1,500 फुट पर बना बंगला डेढ़ घंटे के अभियान में जमींदोज कर दिया गया.

अधिकारियों ने बताया कि यह बंगला शांतिकुंज कॉलोनी की उस जगह पर अवैध कब्जा कर बनाया गया था, जो आईएमसी के स्वीकृत नक्शे में सार्वजनिक बगीचे के लिए तय थी. इस बारे में कॉलोनी के रहवासियों ने भी आईएमसी को शिकायत की थी.

अधिकारियों ने बताया कि सोनी के कनाड़िया रोड स्थित एक अन्य बंगले, गीता भवन चौराहा स्थित नाइट क्लब, साउथ तुकोगंज स्थित होटल और न्यू पलासिया स्थित रेस्तरां के कुछ हिस्सों के अवैध निर्माण गुरुवार को हटाए गए थे.

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक सोनी को मानव तस्करी समेत करीब 30 आपराधिक मामलों में भूमिका के लिए ढूंढ़ा जा रहा है। उसकी गिरफ्तारी पर 30,000 रुपए का इनाम घोषित है.