नई दिल्‍ली: मध्‍य प्रदेश कांग्रेस नीत कमलनाथ सरकार को गिराने की कोशिशों के खबरों के बीच सरकार को समर्थन दे रहे समाजवादी पार्टी के एकमात्र विधायक राजेश शुक्‍ला ‘बबलू’ ने बड़ा बयान दिया है. सपा विधायक ने कहा कि हम कमलनाथ सरकार के साथ पूरी तरह से हैं और अपना समर्थन देते रहेंगे. हमें किसी ने हॉर्स ट्रेडिंग का ऑफर नहीं मिला है. अगर कमलनाथ सरकार खतरा का सामना कर रही है तो वह कुछ कांग्रेस के ही नेता हैं, हम नहीं हैं. Also Read - भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा कोविड-19 के लक्षणों के बाद अस्पताल में भर्ती

छतरपुर जिले की बिजावर विधानसभा से विधायक राजेश शुक्‍ला ‘बबलू’ ने कहा, हम कमलनाथ सरकार के साथ हैं और हम अपना समर्थन जारी रखेंगे. कोई हॉर्स ट्रेडिंग ऑफर हमको नहीं की गई थी. अगर उनकी सरकार किसी खतरे का सामना कर रही है तो यह कांग्रेस के कुछ नेताओं से हैं और हम नहीं. Also Read - भाजपा हिमाचल स्वास्थ्य विभाग में 'भ्रष्टाचार के पाप' से छुटकारा नहीं पा सकती : कांग्रेस

बता दें कि बुधवार को कांग्रेस ने आरोप लगाया कि विपक्षी भाजपा उसके और उसके सहयोगी दलों के विधायकों को तोड़ने की कोशिश कर कमलनाथ के नेतृत्व वाली मध्य प्रदेश सरकार को अस्थिर करना चाहती है. भाजपा ने कमलनाथ सरकार को अस्थिर करने के आरोपों से साफ इनकार किया और कहा कि वह पहले अपने गिरेबान में झांके.

बता दें कि कांग्रेस ने मध्‍य प्रदेश में करीब आधा दर्जन निर्दलीय, सपा एवं बसपा के विधायकों के समर्थन से सरकार बनाई है. इससे पहले सोमवार को दिग्विजय ने नई दिल्ली में पत्रकारों से बात करते हुए आरोप लगाया था कि प्रदेश में कांग्रेस सरकार गिराने के लिए भाजपा नेताओं द्वारा कांग्रेस के विधायकों को बड़ी धनराशि की पेशकश की गई.

उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी ने कहा, पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा, भूपेन्द्र सिंह और रामपाल सिंह सहित अन्य भाजपा नेता साजिश के तहत आठ विधायकों को हरियाणा के एक होटल में जबरन ले गए. विधायकों ने हमें बताया कि भाजपा नेताओं द्वारा उन्हें जबरन वहां ले जाया गया.

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बुधवार को भाजपा पर आरोप लगाया था कि पिछले कई दिन से वह माफिया के साथ मिलकर प्रदेश सरकार को अस्थिर करने का असफल प्रयास कर रही है. साथ ही उन्होंने दावा किया कि राज्य की कांग्रेस सरकार के पास पूर्ण बहुमत है. उन्‍होंने पूर्ण बहुमत का दावा करते हुए कहा था, इसे हमने विधानसभा में अध्यक्ष, उपाध्यक्ष के चुनाव में और बजट पारित करवाकर साबित किया है. भाजपा को हर बार मुंह की खानी पड़ी है. हर बार की तरह इस बार भी भाजपा के मंसूबे मुंगेरीलाल के सपने ही साबित होंगे. (इनपुट: एजेंसी)