इंदौर: नाइजीरिया की 35 वर्षीय बायोटेक्नोलॉजी अनुसंधानकर्ता का यहां पीछा कर उसके यौन उत्पीड़न के आरोप में पुलिस ने देवी अहिल्या विश्वविद्यालय के विद्यार्थी को शनिवार को गिरफ्तार कर लिया. भंवरकुआं पुलिस थाने के प्रभारी संजय शुक्ल ने बताया कि नाइजीरियाई महिला की शिकायत पर जांच के बाद गिरफ्तार आरोपी की पहचान ऊधम सिंह दोहरे (22) के रूप में हुई है. वह देवी अहिल्या विश्वविद्यालय के शारीरिक शिक्षा विभाग के स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम का छात्र है. पुलिस ने बताया कि दोहरे ने विश्वविद्यालय के खंडवा रोड स्थित तक्षशिला परिसर में गुरुवार देर शाम नाइजीरियाई अनुसंधानकर्ता को चाय पिलाने की पेशकश की. जिसे इस विदेशी महिला ने भी स्वीकार कर लिया. मुलाकात के दौरान उसने महिला को अपना मोबाइल नम्बर भी दिया. Also Read - Coronavirus: मध्य प्रदेश में 19 नए मामले, इंदौर में 17 और लोग हुए संक्रमण का शिकार, राज्य में कुल 66 लोग संक्रमित

मासूम चचेरी बहनों से 55 साल के शख्स ने किया रेप, पुलिस ने अरेस्ट कर भेजा जेल Also Read - मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण से एक और मौत, प्रदेश में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 47 हुई

पुलिस अधिकारी ने पीड़ित महिला के बयान के हवाले से बताया, “चाय पीने के बाद नाइजीरियाई महिला जब अपने रास्ते जाने लगी, तो दोहरे उसका कथित रूप से पीछा करने लगा. आरोप है कि कुछ देर बाद वह महिला के पास पहुंचा और उसे पीछे से पकड़ कर अपनी ओर खींचा. बचने के लिए महिला किसी तरह उसे धक्का देकर भागी और विश्वविद्यालय परिसर में एक प्रोफेसर के घर में शरण ली. इस बीच, आरोपी फरार हो गया.’ थाना प्रभारी ने बताया कि दोहरे के खिलाफ भारतीय दंड विधान की धारा 354-ए (यौन उत्पीड़न) और 354-डी (गलत इरादे से पीछा करना) के तहत मामला दर्ज किया गया है. Also Read - Coronavirus: इंदौर में ड्यूटी पर तैनात 3,000 पुलिसकर्मियों को परिवार से दूरी बनाए रखने की सलाह

रिश्वत में रुपए की बजाय अधिकारी ने मांगे ‘A 4 साइज’ कागज, रंगे हाथ पकड़ा गया

इस बीच, देवी अहिल्या विश्वविद्यालय के कुलपति नरेंद्र धाकड़ ने बताया कि मामले की जांच के लिये समिति गठित की जा रही है. समिति की रिपोर्ट के आधार पर आरोपी छात्र के खिलाफ उचित कदम उठाया जाएगा. विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ बायोटेक्नोलॉजी के प्रमुख अनिल कुमार ने बताया कि नाइजीरियाई महिला एक अंतरराष्ट्रीय फैलोशिप के तहत उनके विभाग में पिछले तीन महीने से अनुसंधान कर रही है. यह पोस्ट डॉक्टरल फैलोशिप कुल 19 महीने की है. कुमार ने बताया कि महिला अनुसंधानकर्ता नाइजीरिया सरकार के एक राष्ट्रीय संस्थान में बतौर वरिष्ठ वैज्ञानिक अधिकारी पदस्थ है.