इंदौर: सोशल मैसेजिंग सेवा वॉट्सऐप पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत की विकृत तस्वीर पोस्ट करने वाले ग्रुप एडमिन के खिलाफ यहां आपराधिक मामला दर्ज किया गया है. रावजी बाजार पुलिस थाने के प्रभारी संतोष सिंह यादव ने बताया कि मामले के आरोपी की पहचान लकी वर्मा के रूप में हुई है. शिकायत के मुताबिक उसने एक वॉट्सऐप ग्रुप में 19 अक्टूबर को संघ प्रमुख की विकृत तस्वीर पोस्ट की थी. इस वक्त वह इस ग्रुप के एडमिन में शामिल था.

उन्होंने बताया कि वर्मा के खिलाफ भारतीय दंड विधान की धारा 505 (दो) (विभिन्न वर्गों में शत्रुता, घृणा या दुर्भावना पैदा करने वाली सामग्री प्रसारित करना) और सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 67 (अश्लील सामग्री का प्रसार) के तहत रविवार रात मामला दर्ज किया गया. यादव ने बताया कि मामले में विस्तृत जांच जारी है. आरोपी फिलहाल फरार है. उसकी तलाश की जा रही है. इस बीच, सोशल मीडिया पर भागवत की विकृत फोटो डालने के मामले में संघ खुलकर सामने आ गया है.

मुंबई: कार्यकर्ता ने FB पर लिखा- कांग्रेस 2019 में सरकार बनाएगी तो नाराज लोगों ने चाकू से वार कर मार डाला

संघ के स्थानीय प्रवक्ता सागर चौकसे ने दावा किया कि मामले का आरोपी भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन (एनएसयूआई) का कार्यकर्ता है. उसके खिलाफ संघ के स्वयंसेवक शैलेंद्र शर्मा ने रावजी बाजार पुलिस थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी है. चौकसे ने आरोप लगाया कि वर्मा ने अपने वॉट्सऐप ग्रुप पर भागवत की विकृत फोटो डालकर ऐसे वक्त लोगों की भावनाएं भड़काने का प्रयास किया, जब 28 नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनावों के मद्देनजर मध्यप्रदेश में आदर्श आचार संहिता लागू है.