भोपाल: मध्यप्रदेश विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा को जान से मारने की धमकी देने के आरोपी को पुलिस ने ओडिशा से गिरफ्तार किया है. झारखंड के देवघर जिले के ग्राम खगड़ा के रहने वाले 28 साल के जावेद अख्तर (28) को क्राइम ब्रांच और पुलिस के साइबर सेल के दल ने ओडिशा के संबलपुर से गिरफ्तार किया है. Also Read - मिसाल: पांचवीं तक पढ़ी मोबिना ने पढ़ाया IAS अफसरों को पाठ

फ्रांस में जारी विवादस्पद कार्टून के खिलाफ कांग्रेस के विधायक आरिफ मसूद के नेतृत्व में मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में हुए प्रदर्शन का विरोध करने के बाद शर्मा को कथित धमकी मिली थी. बता देंं क‍ि   फ्रांस के खिलाफ भोपाल में प्रदर्शन का शर्मा द्वारा विरोध करने पर सोशल मीडिया पर उन्हें जान से मारने की कथित धमकी मिली थी, जिसके बाद विधानसभा सचिवालय ने प्रोटेम स्पीकर के लिए सुरक्षा की मांग की थी. Also Read - Love Jihad: उमेश से मंदिर में की लव मैरिज, मां बनने के बाद पता चल पाया कि वह है सलमान

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक,(भोपाल पुलिस रेंज) उपेंद्र जैन ने बताया, ”झारखंड के देवघर जिले के तहत ग्राम खगड़ा के निवासी जावेद अख्तर (28) को अपराध शाखा और पुलिस के साइबर सेल के दल ने संबलपुर, ओडिशा से गिरफ्तार किया है.” उन्होंने बताया कि आरोपी ने स्पीकर को फेसबुक पर जान से मारने की धमकी दी थी और वह संबलपुर में एक इस्पात कारखाने में काम करता है. Also Read - Love Jihad : उमेश बनकर की थी लव मैरिज, निकला सलमान तो धर्म परिवर्तन के लिए बनाने लगा दबाव

बता दें कि पैगंबर मोहम्मद साहब के कार्टून विवाद और फ्रांसीसी राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों खिलाफ भोपाल के इकबाल मैदान में विधायक आरिफ मसूद के नेतृत्व में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने 29 अक्टूबर को विरोध प्रदर्शन किया था.

इस विरोध प्रदर्शन के बाद प्रोटेम स्पीकर रामेशवर शर्मा ने एक बयान में कहा था कि प्रदर्शनकारियों ने इस्लामिक कट्टरता दिखाते हुए भारत में भय का माहौल पैदा किया है और बेहतर होता अगर यह विरोध प्रदर्शन फ्रांस में आयोजित किया जाता, क्योंकि जिस घटना को लेकर यह प्रदर्शन भोपाल में किया गया, वह फ्रांस की है.

डीजीपी को लिखे पत्र में कहा गया कि इस बयान के बाद शर्मा को फेसबुक के अलग-अलग अकाउंट से धमकियां मिलनें लगीं हैं. एक अधिकारी ने बताया मध्यप्रदेश विधानसभा के सुरक्षा अधिकारी ने रविवार को पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) को इस संबंध में पत्र लिखा था. डीजीपी को लिखे पत्र में विधानसभा के सुरक्षा अधिकारी ने कहा कि प्रोटेम स्पीकर के निजी सचिव ने भोपाल में प्रदर्शन के विरोध में दिए गए उनके (प्रोटेम स्पीकर) हालिया बयान से पैदा हुए खतरों के बारे में सूचित किया है.