शिवपुरी: अपने संसदीय लोकसभा क्षेत्र में लगभग अपराजेय माने जाने वाले कांग्रेस महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया पिछले आम चुनाव में मिली पराजय के दर्द को अब तक भुला नहीं पाए हैं. कभी-कभार वह अपना दर्द बयां कर जाते हैं. उन्होंने सोमवार को शिवपुरी में कहा कि लोकसभा चुनाव के नतीजे से दिल में दुख है. भावुक होते हुए उन्‍होंने कहा, “लोकसभा चुनाव के नतीजे से दिल में दुख है पर मैं क्षेत्र के लिए अपना काम करता रहूंगा. मेरी जितनी हैसियत है, उतना काम कर रहा हूं. बस इतना कह सकता हूं कि आप लोग मुझमें कुछ कमी नहीं पाओगे. आज मेरी भी सीमा है.”

बता दें लोकसभा चुनाव में सिंधिया को गुना-शिवपुरी संसदीय क्षेत्र में कभी अपने सांसद प्रतिनिधि रहे भाजपा उम्मीदवार के. पी. यादव के हाथों लगभग सवा लाख वोटों से हार का सामना करना पड़ा था. सिंधिया से यहां संवाददाताओं ने क्षेत्र के विकास सहित अन्य मुद्दों पर सवाल किए.

शिवपुरी जिले के दौरे के दौरान कांग्रेस नेता सिंधिया रविवार रात यहां भावखेड़ी के पीड़ितों से मिलने पहुंचे थे. उन्होंने यहां खुले में शौच के नाम पर दो दलित बच्चों की पीट-पीटकर की गई हत्या पर दुख जताया और पीड़ित परिवारों को 50-50 लाख रुपए मुआवजा दिए जाने की मांग की. इस संबंध में उन्होंने मुख्यमंत्री कमलनाथ को चिठ्ठी भी लिखी है, जिसमें पीड़ित परिवार को शिवपुरी शहर में पक्का मकान बनाकर देने की मांग की गई है. इसके अलावा दोषियों के खिलाफ फास्ट ट्रैक कोर्ट में मामला चलाने की भी बात कही है. खुद सिंधिया ने भी पीड़ित परिवार को पांच लाख रुपए की आर्थिक मदद देने का वादा किया है.

सिंधिया की इस मांग के बाद आनन-फानन में जिला प्रशासन की ओर से शिवपुरी शहर के पीएसक्यू लाइन में दो सरकारी आवास पीड़ित परिवार को उपलब्ध कराए गए हैं. सिंधिया की मांग के बाद सोमवार को आनन-फानन में पीड़ित परिवार को आवास स्वीकृत कराने के लिए कई प्रशासनिक अधिकारी सक्रिय नजर आए.