भोपाल: मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बुधवार को आरोप लगाया कि शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व वाली पिछली भाजपा सरकार में किसानों को कर्ज देने में बहुत बड़ा फर्जी कर्ज घोटाला हुआ है और उन्होंने दावा किया कि यह घोटाला 2,000 करोड़ रुपए से ज्यादा का हो सकता है. कमलनाथ ने यहां मीडिया से चर्चा करते हुए कहा, ”मुझसे आज भी 3-4 जिले के किसान भाई मिले हैं. कोई बता रहा है, हमने कर्ज लिया नहीं, फिर भी हमारा नाम बकायादारों की सूची में शामिल है.” उन्होंने कहा, ”इसी से समझ आ रहा है कि पिछली सरकार (शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व वाली भाजपानीत सरकार) में फर्जी कर्ज देने का यह बहुत बड़ा घोटाला है. हमारा अंदाज है कि यह घोटाला 2000 करोड़ रुपए से अधिक का होगा.” Also Read - West Bengal Assembly Election: कांग्रेस का ममता बनर्जी को बड़ा ऑफर, कहा- पश्चिम बंगाल में मिलकर चुनाव लड़े TMC, बीजेपी से...

बता दें कि कर्जमाफी के दौरान कई जिले के किसानों ने अपने नाम पर फर्जी लोन की शिकायत की है. मध्य प्रदेश के सागर जिले में एक आदिवासी की मौत इसलिए हो गई थी कि उसके नाम पर पांच लाख रुपए का लोन लिया गया था, जबकि उसने कोई कर्ज नहीं लिया था. Also Read - TMC सांसद नुसरत जहां ने भाजपा को बताया दंगा कराने वाला, मुसलमानों को कहा- उल्टी गिनती शुरू..

कमलनाथ ने कहा, लेकिन हम किसी को छोड़ेंगे नहीं. हमने (संबंधित अधिकारियों से) कहा है कि इसकी पूरी जाँच करें.” उन्होंने कहा कि जांच में यदि कोई दोषी पाया जाता है तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी. वहीं, मध्य प्रदेश भाजपा उपाध्यक्ष विजेश लूनावत ने कमलनाथ की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ”कांग्रेस अब मध्य प्रदेश में सत्ता में है. आरोप लगाना आसान है. निराधार आरोप लगाने की बजाय कांग्रेस किसानों की कर्जमाफी करने का काम करके दिखाएं.” Also Read - कृषि कानूनों के खिलाफ कांग्रेस का प्रदर्शन, राहुल-प्रियंका भी हुए शामिल, कहा- पूंजीपतियों को फायदा पहुंचा रही बीजेपी