इंदौर: मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार के खिलाफ मंगलवार को यहां बुलाई गई “किसान आक्रोश रैली” का मंच ढहने से भाजपा के तीन विधायक समेत करीब 10 लोगों को मामूली तौर पर चोटें आई हैं.

चश्मदीद ने बताया कि यह हादसा राजमोहल्ला चौराहे पर लकड़ी के पटियों से बनाए गए मंच के अचानक ढह जाने से हुआ. इस दौरान भाजपा के स्थानीय नेताओं और पार्टी के निर्वाचित जन प्रतिनिधियों समेत करीब 60 लोग मंच पर थे. उन्होंने बताया कि मंच पर इसकी क्षमता से ज्यादा लोग चढ़ गए थे. इस कारण मंच भरभराकर गिर गया जिससे करीब 10 लोगों को मामूली चोट आई. इनमें जिले के दो भाजपा विधायक…. ऊषा ठाकुर और महेंद्र हार्डिया, भाजपा की अन्य स्थानीय विधायक और शहर की महापौर मालिनी लक्ष्मणसिंह गौड़ और पार्टी के पूर्व विधायक राजेश सोनकर शामिल हैं.

सूत्रों ने बताया कि मंच गिरने के बाद भाजपा के कुछ घायल नेता मौके से रवाना हो गए, जबकि कुछ अन्य घायलों को एम्बुलेंस से अस्पताल पहुंचाया गया. इस बीच, शासकीय महाराजा यशवंतराव चिकित्सालय (एमवायएच) के एक अधिकारी ने बताया कि मंच गिरने से घायल तीन लोगों को अस्पताल लाया गया. भाजपा की शहर इकाई के मीडिया प्रभारी देवकीनंदन तिवारी ने बताया कि हादसे के वक्त इंदौर लोकसभा क्षेत्र के भाजपा सांसद शंकर लालवानी और पार्टी के कुछ अन्य वरिष्ठ नेता भी मंच पर थे.

तिवारी ने दावा किया कि मंच गिरने से किसी भी व्यक्ति को गंभीर चोट नहीं आई है.

भाजपा नेताओं ने “किसान आक्रोश रैली” में सूबे की कमलनाथ सरकार पर अन्नदाताओं से वादा खिलाफी का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि कमलनाथ सरकार किसान कर्ज माफी के मुद्दे पर झूठ बोल रही है.