नई दिल्ली: मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव की होने वाली मतगणना 70 साल से ज्यादा उम्र के दर्जन भर नेताओं के सियासी भविष्य का फैसला करेगी जिनमें निवर्तमान भाजपा सरकार के दो काबीना मंत्री शामिल हैं. इन नेताओं ने बतौर उम्मीदवार पूरी ताकत से चुनाव लड़कर यह जताने की कोशिश की है कि उम्र उनके लिए महज एक आंकड़ा है. राज्य में 28 नवंबर को हुए विधानसभा चुनावों में भाजपा और कांग्रेस, दोनों प्रमुख दलों ने 70 साल से ज्यादा उम्र के नेताओं पर उम्मीदवारी का भरोसा जताया. Also Read - UP Vidhan Parishad Election: यूपी विधान परिषद की 11 सीटों के लिए हुए चुनाव में 55.47% मतदान

Also Read - उर्मिला मांतोंडकर शिवसेना में हुईं शामिल, कांग्रेस से लड़ चुकी हैं लोकसभा चुनाव

Assembly Elections 2018 Result Live Update: पांचों राज्यों में कुछ ही देर में शुरू होने वाली है मतगणना Also Read - किसानों से बातचीत से पहले मोदी सरकार के दिग्गज मंत्रियों की बैठक, इस रणनीति पर हो रही चर्चा!

लम्बे सियासी अनुभव को तरजीह देते हुए भाजपा ने बड़वारा से पूर्व मंत्री मोती कश्यप (78), लहार से रसाल सिंह (76), गुढ़ से नागेंद्र सिंह (76), नागौद से पूर्व मंत्री नागेंद्र सिंह (76), रैगांव से जुगुल किशोर बागरी (75) को चुनावी मैदान में उतारा. निवर्तमान स्वास्थ्य मंत्री रुस्तम सिंह (73) मुरैना से चुनाव लड़े, जबकि निवर्तमान वित्त मंत्री जयंत मलैया (71) ने अपनी परंपरागत दमोह सीट से मोर्चा संभाला.

Chhattisgarh Elections Results 2018, Live: 8 बजे से आएंगे रुझान, पहले होगी डाक मतों की गिनती

इनके अलावा, भाजपा के दो अन्य प्रत्याशियों-सिंहावल से शिवबहादुर सिंह चंदेल और महाराजपुर से मानवेंद्र सिंह की उम्र 70-70 साल है. उधर, सबसे उम्रदराज कांग्रेस प्रत्याशियों की फेहरिस्त में पूर्व मंत्री सरताज सिंह (78) अव्वल हैं. अपनी परंपरागत सिवनी-मालवा सीट से चुनावी टिकट काटे जाने से नाराज होकर सिंह ने भाजपा छोड़ दी थी. कांग्रेस ने उन्हें होशंगाबाद से चुनाव लड़ाया है.

Madhya Pradesh Assembly Election Results 2018: किस सीट पर कौन आगे-कौन पीछे, पढ़ें यहां

कांग्रेस ने मंदसौर से पूर्व मंत्री नरेंद्र नाहटा (72) और कटंगी से टामलाल सहारे (71) को चुनावी मैदान में उतारा. कांग्रेस की पूर्ववर्ती दिग्विजय सिंह सरकार में वाणिज्य और उद्योग मंत्री रहे नाहटा का मानना है कि सियासत में किसी उम्मीदवार की उम्र के मुकाबले उसका तजुर्बा ज्यादा मायने रखता है.

Rajasthan Assembly Election Results 2018: किस सीट पर कौन आगे-कौन पीछे, पढ़ें यहां

अपनी चुनावी जीत का भरोसा जताते हुए नाहटा ने कहा, चुनावों के दौरान मतदाता किसी उम्मीदवार की उम्र नहीं, बल्कि उसका अनुभव और उसके गुण-दोष देखते हैं. प्रदेश के सबसे उम्रदराज उम्मीदवारों में पूर्व कृषि मंत्री रामकृष्ण कुसमरिया (75) भी शामिल हैं. “बाबाजी” के नाम से मशहूर कुसुमरिया को इस बार भाजपा ने चुनावी टिकट नहीं दिया.

Telangana Assembly Election Results 2018: किस सीट पर कौन आगे-कौन पीछे, पढ़ें यहां

इसके बाद उन्होंने बागी तेवर दिखाते हुए निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में दो सीटों-दमोह और पथरिया से चुनाव लड़ा. सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के वरिष्ठतम नेता बाबूलाल गौर (88) ने अपनी परंपरागत गोविंदपुरा सीट से इस बार भी ताल ठोंकने की इच्छा जतायी थी. हालांकि, राजधानी भोपाल की इस सीट से भाजपा ने उनके स्थान पर उनकी बहू कृष्णा गौर (50) को चुनाव लड़ाया था.