अनूपपुर: मध्य प्रदेश में ईवीएम को लेकर विवाद बढ़ रहा है. कांग्रेस नेता ज्योतिराव सिंधिया चुनावी नतीजे प्रभावित करने के लिए ईवीएम को लेकर बड़ी साजिश की आशंका जता चुके हैं. वहीं, यहां के अनूपपुर में मतदान के तीन दिन बाद भी ग्रामीण इलाकों के पोलिंग बूथों से ईवीएम मुख्यालय तक लाई जा रही हैं. मतदान के तीन दिन तक ईवीएम नहीं लाए जाने पर कांग्रेस ने गड़बड़ी की आशंका जताई है. स्थानीय कांग्रेस नेताओं का कहना है कि ईवीएम तुरंत ही लाई जानी चाहिए थी, लेकिन तीन दिन बाद ऐसा हो रहा है. आखिर इसकी वजह क्या है.

मप्र चुनाव: वोटिंग के बाद ईवीएम पर विवाद, कांग्रेस ने सरकारी मशीनरी पर उठाए सवाल

बता दें कि शनिवार को कोतमा विधानसभा क्षेत्र की ईवीएम एक बस से अनूपपुर मुख्यालय लाई गई. प्रशासन इसे रिजर्व मशीन बता रहा है. जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी अनुग्रहा कार्तिकेयन का कहना है कि ये सभी मशीनें रिजर्व हैं, जो सभी प्रत्याशियों की मौजूदगी में नगर पालिका की बस से कोतमा से अनूपपुर लाई गई है. इन मशीनों को कलेक्ट्रेट में रखा गया है.

मध्यप्रदेश चुनावः बाबूलाल गौड़ ने कांग्रेस प्रत्याशी को दी जीत की बधाई, कहा- आप मंत्री बन रहे हैं! देखें Video

कांग्रेस के नेताओं ने शनिवार को मशीनें पहुंचने पर गड़बड़ी की आशंका जताई. साथ ही उनकी जांच की मांग की. बाद में इन मशीनों को कलेक्ट्रेट में रखा गया, जबकि इन मशीनों को स्ट्रांगरूम में रखने की व्यवस्था बनी थी. कांग्रेस के नेताओं में फुंदेलाल, सुनील सर्राफ सहित बड़ी संख्या में कार्यकर्ता स्ट्रांगरूम के बाहर डेरा डाले हुए हैं.