नई दिल्ली: मध्य प्रदेश में 230 सीटों पर हुए विधानसभा के नतीजों से एक दिन पहले बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व सांसद रघुनंदन शर्मा के एक बयान से हंगामा हो गया है. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के माई का लाल… जैसे बयान से पार्टी को 10-15 सीटों का नुकसान हो सकता है. हालांकि हंगामा बढ़ने के बाद वह अपने बयान से किनारा करते नजर आए.

न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, पूर्व सांसद रघुनंदन शर्मा ने कहा, लोगों का आक्रोश था कि सीएम शिवराज सिंह चौहान ने इस प्रकार की बात कह दी कि कोई माई का लाल आरक्षण खत्म नहीं कर सकता. इससे हमारा नुकसान तो हुआ है और लगता है कि यदि इस प्रकार के शब्दों का प्रयोग नहीं होता तो 10-15 सीटें हमारी आतीं और ये अनिश्चितता की स्थिति नहीं बनती.

हालांकि हंगामा बढ़ते देख उन्होंने अपने बयान से किनारा कर लिया और कहा कि हमनें गलतियां की हैं, हालांकि एक्जिट पोल उम्मीदों पर खरा नहीं उतर रहे. अगर हमनें पिछली बार जितनी सीटें जीतीं थी उतनी ही सीटें इस बार ही जीत ली तो हम संतुष्ट होंगे. हालांकि अगर उतनी सीटें नहीं मिलीं तो भी बीजेपी को सरकार बनाने के लिए पर्याप्त सीटें मिल जाएंगीं.

गौरतलब है कि एससी और एसटी के आरक्षण को लेकर छिड़ी बहस के दौरान मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा था कि कोई माई का लाल देश में आरक्षण खत्म नहीं कर सकता. शिवराज ने कहा था कि बाबा साहब अंबेडकर की बदौलत नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री और वे खुद मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री बने हैं. अधिकांश एग्जिट पोल में मध्य प्रदेश में कांग्रेस की बढ़त दिखाई गई है. हालांकि नजीते मंगलवार को आएंगे लेकिन बीजेपी के सीनियर नेता के इस बयान ने पार्टी को असहज स्थिति में ला दिया था.