भोपाल: मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव के लिए बुधवार को होने वाले मतदान में विकलांगों के लिए विशेष इंतजाम किए गए हैं. विकलांग मतदाताओं को कतार में नहीं लगना होगा. आधिकारिक तौर दी गई जानकारी के अनुसार, बुधवार को राज्य में 230 विधानसभा क्षेत्रों में मतदान होने वाला है. विधानसभा चुनाव में अधिक से अधिक विकलांग मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग कर सकें, इसके लिए विशेष व्यवस्थाएं की गई हैं. विकलांग मतदाताओं के लिए प्रत्येक मतदान केंद्र में जहां रैम्प बनाए गए हैं, वहीं चिन्हित मतदान केंद्रों पर व्हीलचेयर या ट्राइसाइकिल की उपलब्धता सुनिश्चित की गई है. Also Read - MP: Viral Video में पत्‍नी को पीटते दिखे थे ये सीनियर IPS अफसर, आखिर सस्‍पेंड किए गए

Also Read - MP: न्‍यूज एंकर ने IPS अफसर की पत्‍नी और बेटे के खिलाफ शिकायत की, रिश्‍तों को लेकर कही ये बात

MP Assembly Election 2018: पीएम मोदी, राहुल गांधी ने की सभाएं, पर शिवराज-सिंधिया ही रहे स्टार प्रचारक Also Read - By-election: मध्य प्रदेश उपचुनावों में राष्ट्रवाद की एंट्री, कांग्रेस-भाजपा के लिए जीने-मरने जैसी लड़ाई

चुनाव आयोग ने विकलांग मतदाताओं को मतदान में किसी तरह की असुविधा न हो, इसके लिए उन्हें विशेष छूट देते हुए तीन पहिया वाहन से सीधे मतदान कक्ष तक जाने की अनुमति दी जाएगी. विकलांग मतदाताओं को बिना कतार में लगे सीधे मतदान करने की अनुमति भी होगी. मतदान केंद्रों पर तैनात किए जा रहे मतदानकर्मियों को भी मतदान में विकलांग की सहायता के निर्देश दिए गए हैं. ऐसे मतदाता, जिनके पास विकलांग मतदाता वाली पर्ची होगी, उसे मतदान कक्ष तक ले जाने के निर्देश मतदानकर्मियों को दिए गए हैं.

मनपसंद प्रत्याशी को वोट न देने पर डकैत काट लेते थे नाक-कान, एक फरमान पर बदल जाते थे चुनाव परिणाम

बता दें कि मध्य प्रदेश में 28 नवंबर यानी बुधवार को विधानसभा चुनाव हैं. शासन-प्रशासन द्वारा तैयारियां पूरी कर ली गई हैं. मध्य प्रदेश के सभी ज़िलों की सीमाएं सील कर दी गई हैं. सुबह से यहां मतदान शुरू हो जाएगा. सुरक्षा-व्यवस्था के बड़े पैमाने पर इंतज़ाम किए गए हैं. मध्य प्रदेश में मुख्य टक्कर में कांग्रेस व बीजेपी हैं. शिवराज पिछले करीब 15 सालों से मध्य प्रदेश के सीएम हैं और चौथी बार दावेवारी पेश कर रहे हैं. हालांकि कांग्रेस ने इस चुनाव में सत्ता वापसी के लिए पूरी ताकत झोंक दी. इसीलिए यहां दोनों पार्टियों के बीच मुकाबला टक्कर का है.

विधानसभा चुनावों पर विस्तृत कवरेज के लिए क्लिक करें