भोपालः मध्यप्रदेश के मुंगावली और कोलारस विधानसभा उपचुनाव के लिए सिंधिया राजघराने के वंशज यशोधरा राजे सिंधिया (बीजेपी) और ज्योतिरादित्य सिंधिया (कांग्रेस) अपनी अपनी पार्टी के मतदाताओं के पक्ष में प्रचार कर रहे हैं. यशोधरा कोलारस से बीजेपी प्रत्याशी देवेन्द्र जैन को जिताने की अपील कर रही है. वहीं, ज्योतिरादित्य कोलारस से कांग्रेस प्रत्याशी महेन्द्र सिंह यादव और मुंगावली सीट पर बृजेन्द्र सिंह यादव के पक्ष में मतदान की गुजारिश कर रहे हैं. मुंगावली से बीजेपी के बाई साहब यादव चुनाव मैदान में है. Also Read - स्मृति ईरानी ने कहा- कांग्रेस देश की चुनौतियों से फायदा उठाने की कोशिश में है, वो यही कर सकती है

Also Read - कांग्रेस का दावा- 'स्पीक अप इंडिया' सबसे बड़ा डिजिटल आंदोलन, 57 लाख लोग LIVE आए, 10 करोड़ लोगों ने देखे VIDEO

ज्योतिरादित्य वर्तमान में गुना लोकसभा सीट से सांसद हैं और कोलारस एवं मुंगावली विधानसभा सीट गुना लोकसभा क्षेत्र में आते हैं. यह उपचुनाव कांग्रेस और बीजेपी के लिये अहम हैं, क्योंकि इसे आगामी विधानसभा चुनाव के सेमीफाइनल के रूप में देखा जा रहा हैं. इन दोनों सीटों पर 24 फरवरी को मतदान होगा और 28 फरवरी को मतगणना होगी. Also Read - भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा कोविड-19 के लक्षणों के बाद अस्पताल में भर्ती

ये भी पढ़ेंः मप्र उपचुनाव में सिंधिया को ‘अभिमन्यु’ बनाने की रणनीति!

सामाजिक कार्यकर्ता संजय शर्मा ने बताया कि सामान्यत: सिंधिया परिवार के सदस्य एक दूसरे के खिलाफ प्रचार नहीं करते हैं और अलग-अलग दलों में होने के बावजूद एक दूसरे के खिलाफ एक सीट से प्रत्याशी होने से भी बचते रहे हैं. उन्होंने कहा कि इस उपचुनाव में यशोधरा एवं ज्योतिरादित्य चुनाव प्रचार कर रहे हैं. सिंधिया राजघराने में ऐसा पहले कभी नहीं देखा गया.

शर्मा ने बताया कि यशोधरा अपनी मां राजमाता विजयाराजे सिंधिया की विरासत के नाम पर मतदाताओं से बीजेपी को वोट देने की अपील कर रही हैं, जबकि ज्योतिरादित्य अपने पिता माधवराव सिंधिया द्वारा किये गये विकास के नाम पर मतदाताओं को कांग्रेस की ओर लुभा रहे हैं. मध्यप्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता पंकज चतुर्वेदी ने इस बात से इनकार किया है कि यह सिंधिया बनाम सिंधिया की लड़ाई है.

ये भी पढ़ेंः उमा भारती का दावा- ‘कश्मीर हमले के वक्त नेहरू ने मांगी थी संघ से मदद’

प्रदेश बीजेपी प्रवक्ता दीपक विजयवर्गीय ने कहा कि इस उपचुनाव में मुख्य लड़ाई बीजेपी और कांग्रेस के बीच है. मुंगावली सीट कांग्रेस विधायक महेन्द्र सिंह कालूखेड़ा के निधन से खाली हुई है, जबकि शिवपुरी जिले की कोलारस सीट कांग्रेस विधायक राम सिंह यादव के निधन से रिक्त हुई है.