भोपाल: राम की नगरी अयोध्या में प्रस्तावित राम मंदिर के निर्माण के लिए श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र निधि संग्रह की शुरुआत हो गई है. मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी एक लाख रुपए की सहयोग राशि का चेक देते हुए कहा है कि अयोध्या में राम मंदिर नहीं बल्कि राष्ट्र मंदिर बन रहा है. इसमें उनका सहयोग गिलहरी जैसा है. Also Read - MP: राष्ट्रपति कोविंद ने जबलपुर में ऑल इंडिया ज्यूडिशियल एकेडमीज डायरेक्टर्स रिट्रीट का उद्घाटन किया

राम मंदिर निधि संग्रह अभियान में जिम्मेदारी का निर्वाहन करने वाले पदाधिकारियों ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री चौहान से उनके आवास पर मुलाकात की. मुख्यमंत्री ने इस दल को एक लाख रुपए का चेक सहयोग राशि के तौर पर सौंपा. इस मौके पर मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर नहीं बल्कि राष्ट्र मंदिर बन रहा है. Also Read - Rajasthan में अब 4 और राज्यों से आने वालों के लिए कोरोना जांच रिपोर्ट जरूरी

इस मंदिर निर्माण में हमारे (शिवराज) परिवार की भी एक इंट लगे. यह गिलहरी जैसा सहयोग है. मुख्यमंत्री से भेंट करने वाले पदाधिकारियों का कहना है कि राम मंदिर के लिए होने वाले संग्रह को लेकर पूरे देश में उत्साह है. Also Read - MP के इन दो बड़े शहरों में अगले तीन में कम नहीं हुए कोरोना के केस तो फिर 8 मार्च से...

पूरी लागत 1100 करोड़ रुपये से अधिक हो सकती है जिसमें मुख्य मंदिर पर 300 से 400 करोड़ रुपये और परिसर के अंदर 67 एकड़ के विकास का खर्च भी शामिल है। उन्होंने कहा कि मंदिर का निर्माण तीन से साढ़े तीन वर्ष के अंदर पूरा होने की उम्मीद है. इस अभियान के जरिए लगभग पांच लाख गांव गांव तक करीब 13 करोड़ लोगां से संपर्क किया जाएगा.