नई दिल्ली. लोकसभा का चुनाव हो या विधानसभा, प्रत्याशी और मतदाता सभी चुनावी रंग में रंगे नजर आते हैं. कभी किसी उम्मीदवार को उसके निर्वाचन क्षेत्र से दुत्कारा जाता है तो कभी उसके समर्थक कुछ अनोखा कर गुजरते हैं. वहीं, चुनाव में खड़े उम्मीदवार भी अपने करतबों से कुछ ऐसा कर जाते हैं जो भले वोटरों के दिल में न उतरता हो, लेकिन मीडिया की नजरों में जरूर चढ़ जाता है. मतलब यह कि चुनाव के दौरान चुनावी अंदाज ऐसे पल होते हैं जो आपको सियासी हालात में भी मनोरंजन का मौका दे जाते हैं. मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान भी एक प्रत्याशी के वोट मांगने का अंदाज ऐसा है कि यह चर्चा का विषय बना हुआ है. प्रदेश की राजधानी भोपाल से चुनाव लड़ रहे इस प्रत्याशी का नाम है शरद सिंह कुमार और इनका चुनाव चिह्न है जूता. Also Read - यूपी के मंत्री ने कहा- कांग्रेस ने भ्रम फैलाकर पाया वोट, पछता रहे हैं मध्यप्रदेश के लोग

एमपी के स्कूलों में ग से गणेश की जगह ग से गधा पढ़वाने वाला नेता जिसने प्रधानमंत्री का पद ठुकरा दिया

अब जब निर्वाचन आयोग ने शरद सिंह कुमार को जूता चुनाव चिह्न दे ही दिया है, तो उन्होंने भी वोट मांगने का निराला अंदाज अपनाया. शरद सिंह कुमार आजकल सरेराह मतदाताओं के जूते पॉलिश करते नजर आ रहे हैं. जूता पॉलिश के बहाने वे मतदाताओं तक अपनी बात पहुंचा देते हैं, साथ ही वोट मांगना भी नहीं भूलते. राष्ट्रीय आमजन पार्टी के बैनर तले चुनाव लड़ रहे शरद ने बताया कि निर्वाचन आयोग ने विधानसभा चुनाव के लिए कई चुनाव चिह्न जारी किए. लेकिन कोई भी उम्मीदवार अपने चुनाव चिह्न के रूप में ‘जूता’ लेने को तैयार नहीं हुआ. लिहाजा यह चिह्न मैंने ले लिया. मीडिया के साथ बातचीत में शरद कहते हैं कि हमारी पार्टी ने जूता चुनाव चिह्न लिया है. यह हमारे लिए सिर्फ चुनाव जीतने का चिह्न नहीं है, बल्कि हम इस बहाने वोटरों के आशीर्वाद भी पाते हैं.

मध्यप्रदेश का घाघ नेता, जो ‘वाईफ’ के कारण नहीं जा सका बॉलीवुड, बाद में बना सीएम

बहरहाल, आगामी 28 नवंबर को मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान होने हैं. इस चुनाव में राष्ट्रीय आमजन पार्टी के उम्मीदवार शरद सिंह कुमार के पक्ष में कितने मतदाता वोट करेंगे, यह तो 11 दिसंबर की मतगणना के बाद ही पता चलेगा. लेकिन इस बीच शरद के वोट मांगने का यह अंदाज तो लोगों को लुभा ही रहा है. आने वाला समय बताएगा कि शरद ने चुनाव प्रचार के दौरान जितने वोटरों के जूते पॉलिश किए, उनमें से कितने लोग वोटिंग करते वक्त उनकी इस सेवा को याद रखते हैं.

विधानसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com