नई दिल्ली: सांस की दिक्कत तथा अन्य परेशानियों की वजह से लखनऊ के मेदांता अस्पताल में भर्ती किए गए मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन की ‘हालत गंभीर लेकिन नियंत्रण में’ है. उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया है. मेदांता
अस्पताल के निदेशक प्रो. राकेश कपूर ने सोमवार को कहा कि टंडन के लिवर का एक छोटा ऑपरेशन किया गया, जिसके बाद उनकी हालत बिगड़ गई और उन्हें एक जीवन रक्षक प्रणाली पर रखा गया है. टंडन ने बुखार और पेशाब
में तकलीफ की शिकायत की थी, जिसके बाद उन्हें शनिवार को अस्पताल में भर्ती कराया गया था. Also Read - Coronavirus in MP Update: मध्य प्रदेश में जारी कोरोना का कहर, 16 हजार से अधिक संक्रमित, 629 की मौत

मेदांता अस्पताल द्वारा जारी किए गए बुलेटिन के मुताबिक 85 वर्षीय टंडन की हालत गंभीर लेकिन नियंत्रण में है. उन्हें क्रिटिकल केयर विशेषज्ञों की निगरानी में रखा गया है. अस्पताल ने कहा कि टंडन के पेट में हुए रक्तस्राव के
लिए उनका आपात स्थिति में ऑपरेशन किया गया. Also Read - मध्य प्रदेश: विभागों के बंटवारे में सिंधिया ने फंसाया ऐसा पेंच कि चकरा गए शिवराज, मामला दिल्ली पहुंचा

बुलेटिन के मुताबिक उनका ऑपरेशन कामयाब रहा और उन्हें विशेषज्ञों की निगरानी में आईसीयू में रखा गया है सोमवार को उनके फेफड़ों, गुर्दे और लिवर में समस्याएं पैदा हुई जिसके बाद उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया. उनकी
डायलिसिस भी की जा रही है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को अस्पताल जाकर टंडन के स्वास्थ्य की जानकारी ली. Also Read - मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस के गंभीर हालात के लिए पूर्व कांग्रेस सरकार जिम्मेदार: नरोत्तम मिश्रा

85 वर्षीय टंडन को गत 11 जून की सुबह साँस की दिक्कत, पेशाब की परेशानी और बुखार की शिकायत होने पर अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

(इनपुट भाषा)