Madhya Pradesh Found Delta Plus variant (B.1.617.2.1/(AY.1), Delta variant (B.1.617.2), Alpha variant (B.1.1.7): देश में कोरोना वायरस के कम होते नए मामलों के बीच इसके नए वेरिएंट ने चिताएं बढ़ा दी हैं. कोविड संक्रमण पर लगभग काबू पा चुके मध्य प्रदेश में इसके कई तरह के नए वेरिएंट मिले हैं. प्रदेश में डेल्टा प्लस वेरिएंट (Delta Plus variant) से संक्रमित मिले दो मरीजों की पहले ही मौत हो चुकी है. सरकार ने नवंबर 2020 से अब तक 2,025 रेंडम सैंपल नेशनल सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल (NCDC) को भेजे हैं. इनमें से 1,219 सैंपल की रिपोर्ट की आ चुकी है. इसमें 380 सैंपलों में तीन तरह अलग-अलग वेरिएंट्स मिले हैं.Also Read - भारत ने 31 अगस्‍त तक इंटरनेशनल यात्री उड़ानों पर प्रतिबंध बढ़ाया, पढ़ें ये गाइडलाइंस

रिपोर्ट के मुताबिक 318 सैंपलों में डेल्टा वेरिएंट (Delta variant- B.1.617.2) मिला है, जिसे भारत में दूसरी लहर में लोगों के तेजी से संक्रमित होने का कारण बताया गया. इसी तरह मध्य प्रदेश में अभी तक 6 डेल्टा प्लस वेरिएंट (Delta Plus variant- B.1.617.2.1/(AY.1) के केस मिले हैं. 56 केस अल्फा वेरिएंट (Alpha variant- B.1.1.7) के मिले हैं. एक अंग्रेजी अखबार ने हेल्थ कमिश्नर आकाश त्रिपाठी के हवाले से इन सभी मामलों की पुष्टि की है. Also Read - COVID19​​-19 की तीसरी लहर? मणिपुर सरकार ने 10 दिनों के लिए पूर्ण कर्फ्यू की घोषणा की

प्रदेश में मिले डेल्टा प्लस के छह मामलों में दो-दो भोपाल और उज्जैन में मिले हैं जबकि एक-एक केस अशोकनगर और रायसेन में मिला. डेल्टा वेरिएंट से उज्जैन में एक महिला और अशोकनगर में एक पुरुष की मौत हो चुकी है. दोनों की रिपोर्ट में डेल्टा प्लस वेरिएंट पाया गया. Also Read - FPI News: एफपीआई ने जुलाई में अब तक भारतीय इक्विटी से 2,249 करोड़ रुपये निकाले

हेल्थ कमिश्नर त्रिपाठी (Health Commissioner Akash Tripathi) के मुताबिक मई में उज्जैन की महिला की मौत के लिए डेल्टा प्लस वेरिएंट का जिम्मेदार ठहराया गया है. मगर अशोकनगर में शख्स की मौत के लिए वेरिएंट को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है. उन्होंने कहा कि मृतक महिला का टीकाकरण नहीं हुआ था, मगर उनके पति को वायरस ने प्रभावित नहीं किया. वो टीका लगवा चुके थे.

प्रदेश के एक वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि जिन लोगों का टीकाकरण हुआ है वो वेरिएंट के खिलाफ प्रतिरोध दिखा रहे हैं. टीकाकरण इसके खिलाफ हमारी सुरक्षा है. यही बात राज्य के स्वास्थ्य मंत्री विश्वास सारंग भी दोहरा चुके हैं. उन्होंने कहा कि राज्य में पाए गए डेल्टा प्लस वेरिएंट के पांच मामलों में से चार का टीकाकरण किया गया था और वे होम आइसोलेशन में ठीक हो गए थे. उज्जैन की महिला का अभी तक टीकाकरण नहीं हुआ था.